छत्तीसगढ़ में नक्सली वारदातें बीस प्रतिशत अधिकः सांसद संतोष पाण्डेय

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 6, 2021   11:05
  • Like
छत्तीसगढ़ में नक्सली वारदातें बीस प्रतिशत अधिकः सांसद संतोष पाण्डेय

उन्होंने कहा कि प्रदेश में लगातार बढ़ते नक्सल वारदातों के बीच कांग्रेस सरकार की असंवेदनशीलता के चलते भय का वातावरण व्याप्त है। बीजापुर के नक्सली हिंसा में किसी ने भी जवानों के सुध लेने की जरूरत नही समझी है। जो बेहद ही दुखद व निंदनीय है।

रायपुर। सांसद संतोष पाण्डेय ने कहा कि छत्तीसगढ़ में लगातर नक्सली हिंसा के चलते पूरे देश में छवि बिगड़ रही है। इन दो वर्षों में  देश के नक्सल प्रभावित इलाकों में नक्सली घटनाओं में कमी आ रही है। वर्ष 2018 में देशभर में 833 नक्सली घटनाएं दर्ज हुई थीं।जो 2019 में घटकर 670 और 2020 में घटकर 665 हो गई है। लेकिन छत्तीसगढ़ में 20 प्रतिशत अधिक नक्सली वारदातें दर्ज की गयी है।उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में 2019 की तुलना में 2020 में नक्सली घटनाएं बढ़ी हैं। छत्तीसगढ़ में 2018 से लेकर 2020 तक तीन साल में 970 नक्सली घटनाएं हुई थीं। जिनमें सुरक्षाबलों के 113 जवान वीरगति को प्राप्त हुए गये। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा सांसद बोले, क्रिकेट न होता तो इस कदर कोरोना न होता

उन्होंने कहा कि 2019 में छत्तीसगढ़ में 263 नक्सली घटनाएं दर्ज हुई थीं। वहीं 2020 में करीब 20% बढ़कर 315 हो गईं। सांसद पाण्डेय ने कहा कि जबकि 2019 में नक्सली हमलों में छत्तीसगढ़ में 22 जवान शहीद हुए थे और 2020 में 36 जवानों की जान गई। अभी 2021 के इन चार माह में ही करीब 27 जवान वीरगति को प्राप्त किये है। यह मात्र दो मात्र बीजापुर और नारायणपुर की वारदात का आकड़ा हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में लगातार बढ़ते नक्सल वारदातों के बीच  कांग्रेस सरकार की असंवेदनशीलता के चलते भय का वातावरण व्याप्त है। बीजापुर के नक्सली हिंसा में किसी ने भी जवानों के सुध लेने की जरूरत नही समझी है। जो बेहद ही दुखद व निंदनीय है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept