NC नेताओं की मीटिंग, जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद शीर्ष इकाई की पहली बैठक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 29, 2020   15:36
NC नेताओं की मीटिंग, जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद शीर्ष इकाई की पहली बैठक

नेशनल कॉन्फ्रेंस के एक नेता ने बताया कि पार्टी अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला की अध्यक्षता में पार्टी के मुख्यालय नवा-ए-सुबह में पीएसी की बैठक शुरू हुई। उन्होंने कहा कि पार्टी के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला तथा महासचिव अली मोहम्मद सागर समेत अन्य वरिष्ठ नेता बैठक में मौजूद थे।

श्रीनगर। नेशनल कॉन्फ्रेंस की राजनीतिक मामलों की समिति (पीएसी) की बैठक शनिवार को शुरू हुई। पिछले साल अगस्त में जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के केंद्र के फैसले के बाद पार्टी की निर्णय लेने वाली शीर्ष इकाई की यह पहली बैठक है। नेशनल कॉन्फ्रेंस के एक नेता ने बताया कि पार्टी अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला की अध्यक्षता में पार्टी के मुख्यालय नवा-ए-सुबह में पीएसी की बैठक शुरू हुई। उन्होंने कहा कि पार्टी के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला तथा महासचिव अली मोहम्मद सागर समेत अन्य वरिष्ठ नेता बैठक में मौजूद थे। उन्होंने बताया कि पीएसी में शामिल जम्मू क्षेत्र के नेता वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक में शामिल हुए।

इसे भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सेना ने ढेर किए 3 आतंकी, एक जवान भी शहीद

पिछले साल अगस्त में जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने और राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने के केंद्र के फैसले के बाद नेशनल कॉन्फ्रेंस की राजनीतिक मामलों की समिति की यह पहली बैठक है। पिछले सप्ताह फारूक अब्दुल्ला ने यहां अपने गुपकार आवास पर तीन दिनों में पार्टी के विभिन्न नेताओं के साथ मुलाकात की थी।नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष ने उन नेताओं से मुलाकात की जिन्हें पिछले एक साल से हिरासत में रखा गया था और पार्टी ने उनकी हिरासत को अदालत में चुनौती दी थी। हालांकि, सरकार ने अदालत में कहा था कि उन नेताओं को हिरासत में नहीं रखा गया था और वे कहीं भी जाने के लिए आजाद थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।