पुणे हादसे पर राकांपा ने साधा निशाना, सीएम को किसी और चीज की नहीं सिर्फ चुनाव की फिक्र

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 26, 2019   17:55
पुणे हादसे पर राकांपा ने साधा निशाना, सीएम को किसी और चीज की नहीं सिर्फ चुनाव की फिक्र

पूर्व उपमुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि बारामती के ग्रामीण इलाकों से 224 परिवारों और 602 मवेशियों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है। वह इसी विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को बताया कि पुणे जिले में भारी बारिश के बाद बाढ़ और दीवार गिरने की घटनाओं में कम से कम 12 लोगों की मौत हुई

मुंबई। महाराष्ट्र के पुणे में भारी बारिश की वजह से बाढ़ और दीवार गिरने से 12 लोगों की मौत के बाद विपक्षी राकांपा ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस को बस चुनाव की फिक्र है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रवक्ता नवाब मलिक ने यह भी आरोप लगाया कि राज्य का आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ ‘गहरी नींद’ सो रहा है।  मलिक ने कहा कि मुख्यमंत्री भाजपा नेताओं की चुनाव पूर्व बैठकों में हिस्सा लेने के लिए नई दिल्ली में हैं। प्रवक्ता ने कहा कि लोग जिस संकट का सामना कर रहे हैं, उससे इन लोगों को कोई लेना नहीं है। उन्हें सिर्फ सत्ता में बने रहने की चिंता है।

इसे भी पढ़ें: चुनाव से पहले बढ़ सकती हैं पवार की मुश्किलें, सहकारी बैंक घोटाला में ED ने दर्ज किया केस

उन्होंने कहा कि राज्य का आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ गहरी नींद में सो रहा है। राकांपा नेता एवं पूर्व उपमुतख्यमंत्री अजित पवार ने लोगों से अपील की कि वे स्थिति को देखते हुए चौकन्ने रहें।  उन्होंने मुख्यमंत्री से जिले के कई इलाकों में सामान्य हालात बहाल करने को भी कहा, जहां सड़कें धंस गई हैं और पुल बह गए हैं। पूर्व उपमुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि बारामती के ग्रामीण इलाकों से 224 परिवारों और 602 मवेशियों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है। वह इसी विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को बताया कि पुणे जिले में भारी बारिश के बाद बाढ़ और दीवार गिरने की घटनाओं में कम से कम 12 लोगों की मौत हुई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।