पड़ोसी राज्यों ने इस साल 56 बार असम की जमीन का किया अतिक्रमण, प्रदेश सरकार ने दी जानकारी

Sarbananda Sonowal
मुख्यमंत्री सर्वांनद सोनोवाल की ओर से पटवारी ने बताया कि कछार से सबसे ज्यादा 17 मामले सामने आए जिसके कारण असम और मिजोरम के लोगों के बीच हिंसक झड़पें हुई। उन्होंने कहा कि कछार में झड़प में एक व्यक्ति की मौत हो गयी।

गुवाहाटी। असम सरकार ने सोमवार को विधानसभा को सूचित किया कि वर्ष 2020 में अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, नगालैंड और मिजोरम जैसे पड़ोसी राज्यों द्वारा भूमि अतिक्रमण की 56 घटनाओं का उसे सामना करना पड़ा। विपक्ष के नेता देवव्रत सैकिया के प्रश्न के लिखित उत्तर में संसदीय मामलों के मंत्री चंद्र मोहन पटवारी ने बताया कि इस साल एक जनवरी से 11 जिलों में भूमि अतिक्रमण की घटनाएं सामने आयी। मुख्यमंत्री सर्वांनद सोनोवाल की ओर से पटवारी ने बताया कि कछार से सबसे ज्यादा 17 मामले सामने आए जिसके कारण असम और मिजोरम के लोगों के बीच हिंसक झड़पें हुई। उन्होंने कहा कि कछार में झड़प में एक व्यक्ति की मौत हो गयी। 

इसे भी पढ़ें: विपक्ष की आपत्ति के बावजूद असम सरकार ने सरकारी मदरसों को बंद करने वाला विधेयक किया पेश 

मंत्री ने कहा कि कछार के बाद वेस्ट कर्बी आंगलोंग और कामरूप जिलों से भूमि अतिक्रमण की सात घटनाएं सामने आयी। उन्होंने कहा कि लखीमपुर (छह मामले),धेमाजी और कर्बी आंगलोंग (पांच-पांच मामले), जोरहाट (चार मामले), करीमगंज (दो) और सादिया, तिनसुकिया और शिवसागर से एक-एक मामला सामने आया। उन्होंने कहा कि अतिक्रमण वाली जमीन को वापस लेने के लिए असम सरकार ने संबंधित राज्यों और केंद्र को कई पत्र लिखे हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़