संकट टला, दिल्ली के कुछ सरकारी और निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति हुई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 21, 2021   10:40
संकट टला, दिल्ली के कुछ सरकारी और निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति हुई

गुरु तेग बहादुर अस्पताल के एक अधिकारी ने बताया कि एक कंपनी से भेजा गया ऑक्सीजन का ट्रक देर रात डेढ़ बजे उनके पास पहुंचा। लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल के चिकित्सा निदेशक डॉ सुरेश कुमार ने कहा कि एक विक्रेता से भेजा गया ऑक्सीजन का ट्रक तड़के तीन बजे अस्पताल पहुंचा।

नयी दिल्ली। दिल्ली के कुछ बड़े सरकारी और निजी अस्पतालों को बुधवार सुबह ऑक्सीजन की नयी खेप मिल गयी है। अधिकारियों के मुताबिक समय रहते ऑक्सीजन की आपूर्ति होने से बड़ा संकट टल गया। सूत्रों ने कहा कि गंगाराम अस्पताल को निजी विक्रेताओं से तड़के तीन बजे से पहले 5,000 घन मीटर की ऑक्सीजन की आपूर्ति हुई। यह भंडार बुधवार दोपहर तक चलेगा। अन्य कंपनी से ऑक्सीजन की आपूर्ति की प्रतीक्षा की जा रही है। गुरु तेग बहादुर अस्पताल के एक अधिकारी ने बताया कि एक कंपनी से भेजा गया ऑक्सीजन का ट्रक देर रात डेढ़ बजे उनके पास पहुंचा। लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल के चिकित्सा निदेशक डॉ सुरेश कुमार ने कहा कि एक विक्रेता से भेजा गया ऑक्सीजन का ट्रक तड़के तीन बजे अस्पताल पहुंचा।

इसे भी पढ़ें: पीएम मोदी ने देशवासियों को दी रामनवमी और सिविल सेवा दिवस की शुभकामनाएं

आंबेडकर अस्पताल को सुबह पांच बजे ऑक्सीजन की ताजा आपूर्ति हुई। अधिकारियों का कहना है कि यह आपूर्ति 24 घंटे तक चलेगी। दिल्ली में मंगलवार को कोरोना वायरस के रिकॉर्ड 28,395 मामले सामने आए और 277 लोगों की मौत के बाद महामारी की भयावह होती स्थिति सामने आई है। वहीं संक्रमण की दर 32.82 प्रतिशत हो गई और शहर में “ऑक्सीजन का गंभीर संकट” खड़ा हो गया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ‘‘हाथ जोड़कर” मंगलवार को केंद्र से दिल्ली में ऑक्सीजन की आपूर्ति करने की अपील की थी और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि अगर बुधवार सुबह तक ऑक्सीजन की नये सिरे से आपूर्ति नहीं की गई तो शहर में हाहाकार मच जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।