• बदल जाएगा दिल्ली रेलवे स्टेशन का Look! देश-विदेश की 9 कंपनियों ने दिखाया रुचि

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन को गुंबद के आकार के टर्मिनल भवनों और दो आगमन-प्रस्थान क्षेत्रों में ग्लोबल स्टेंडर्स के अनुरूप विश्व स्तरीय स्टेशन के रूप में पुनर्विकसित किया जाएगा। इसमें हर तरफ दो मल्टी-मोडल ट्रांसपोर्ट हब, 40-मंजिल ऊंचे-ऊंचे ट्विन टॉवर जिसमें होटल / ऑफिस और पोडियम पर रिटेल के साथ होंगे।

दिल्लीवासियों के लिए खुशखबरी है, बता दें कि राजधानी दिल्ली का रेलवे स्टेशन एक बार फिर से और भी खूबसूरत बनने जा रहा है। जी हां, दिल्ली रेलवे स्टेशन का पुनर्विकास किया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक, नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास परियोजना को लगभग 6,500 करोड़ रुपये के निवेश से पूरा करने की दौड़ में जीएमआर राजमार्गों, अडानी रेलवे और रियाल्टार ओमेक्स सहित नौ प्रमुख वैश्विक और घरेलू कंपनियां शामिल हैं। बता दें कि रेल भूमि विकास प्राधिकरण (RLDA), जिसे पुनर्विकास का काम सौंपा गया है, ने कहा कि BIF IV India Infrastructure Holding, ISQ Asia Infrastructure Investments, Anchorage Infrastructure Investments, Kalpataru Power Transmission, Arabian Construction Company और Elpis Ventures ने नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास परियोजना के लिए भी तकनीकी बोली प्रक्रिया में भाग लिया है।

इसे भी पढ़ें: हिंद महासागर क्षेत्र के देशों को हथियार की आपूर्ति करने के लिये भारत तैयार : राजनाथ सिंह

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पुनर्विकास RLDA की एक प्रमुख परियोजना है, और दिल्ली-एनसीआर में ट्रांजिट-ओरिएंटेड डेवलपमेंट (TOD) अवधारणा पर पहली बार किया जा रहा है। इसे डिजाइन-बिल्ड-फाइनेंस-ऑपरेट-ट्रांसफर (DBFOT) मॉडल पर विकसित किया जाएगा।परियोजना को लगभग चार सालों में पूरा किया जाना है। 

ऐसे होगा इसका निर्माण

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन को गुंबद के आकार के टर्मिनल भवनों और दो आगमन-प्रस्थान क्षेत्रों में ग्लोबल स्टेंडर्स के अनुरूप विश्व स्तरीय स्टेशन के रूप में पुनर्विकसित किया जाएगा। इसमें हर तरफ दो मल्टी-मोडल ट्रांसपोर्ट हब, 40-मंजिल ऊंचे-ऊंचे ट्विन टॉवर जिसमें होटल / ऑफिस और पोडियम पर रिटेल के साथ होंगे और हाई-स्ट्रीट शॉपिंग आउटलेट के साथ पैदल यात्री बुलेवार्ड होंगे। इसमें साइकिल ट्रैक को भी शामिल  किया जाएगा। दिल्ली रेलवे स्टेशन को एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन मेट्रो के माध्यम से आईजीआई हवाई अड्डे और दिल्ली मेट्रो की येलो लाइन के माध्यम से दिल्ली एनसीआर के साथ जोड़ा जाएगा। इसके अलावा स्टेशन के दोनों ओर डीटीसी बस स्टॉप भी होगा। इसमें 120 हेक्टेयर का मास्टर प्लान एरिया है, जिसमें से 88 हेक्टेयर परियोजना के चरण 1 में योजना बनाई जा रही है। इस परियोजना की मंजूरी को तेज करने के लिए, दिल्ली के उपराज्यपाल की अध्यक्षता में एक सर्वोच्च समिति का भी गठन किया गया है। परियोजना के पहले चरण में, RLDA ने पुनर्विकास के लिए नई दिल्ली, तिरुपति, देहरादून, नेल्लोर और पुदुचेरी जैसे प्रमुख स्टेशनों को प्राथमिकता दी है।