नयी शिक्षा नीति पर आरएसएस, भाजपा नेताओं और केंद्रीय मंत्रियों ने की चर्चा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 21, 2021   08:00
नयी शिक्षा नीति पर आरएसएस, भाजपा नेताओं और केंद्रीय मंत्रियों ने की चर्चा
प्रतिरूप फोटो

सूत्रों ने कहा कि केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, कैबिनेट में उनके सहयोगी राजीव चंद्रशेखर और जितेंद्र सिंह भी बैठक में मौजूद थे। बैठक में कौशल विकास और संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं पर भी चर्चा हुई।

नयी दिल्ली| राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं तथा केंद्रीय मंत्रियों ने बुधवार को समाप्त हुई दो दिवसीय बैठक में नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर चर्चा की।

सूत्रों ने यह जानकारी दी। इस बैठक का आयोजन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) द्वारा किया गया था। सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में आरएसएस का प्रतिनिधित्व इसके संयुक्त महासचिव कृष्ण गोपाल और अरुण कुमार, इसकी प्रचार शाखा के प्रमुख सुनील आंबेकर तथा अन्य ने किया। इसके अलावा विद्या भारती, भारतीय शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास, भारतीय शिक्षा मंडल सहित विभिन्न आरएसएस-संबद्ध संगठनों और एबीवीपी के नेता भी बैठक में शामिल हुए।

इसे भी पढ़ें: सीआईएससीई बोर्ड ने कक्षा 10 और 12 की परीक्षाएं स्थगित की

सूत्रों के मुताबिक बैठक में भाजपा का प्रतिनिधित्व इसके समन्वयक वी सतीश, महासचिव सी टी रवि और संयुक्त महासचिव (संगठन) शिवप्रकाश ने किया। बैठक में नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर विशेष रूप से छात्र दृष्टिकोण से विस्तृत चर्चा की गई जिसमें आरएसएस की विचारधारा की ओर झुकाव रखने वाले विभिन्न शिक्षाविद भी उपस्थित थे।

सूत्रों ने कहा कि केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, कैबिनेट में उनके सहयोगी राजीव चंद्रशेखर और जितेंद्र सिंह भी बैठक में मौजूद थे। बैठक में कौशल विकास और संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं पर भी चर्चा हुई।

इसे भी पढ़ें: सीबीएसई बोर्ड परीक्षा: कक्षा 10वीं के लिए पहले टर्म की परीक्षा 30 नवंबर से शुरू होगी





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।