आयात नहीं किए जाने वाले रक्षा सामानों की अगली सूची मार्च में की जाएगी जारी: राजनाथ सिंह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 23, 2021   08:41
आयात नहीं किए जाने वाले रक्षा सामानों की अगली सूची मार्च में की जाएगी जारी: राजनाथ सिंह

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ‘वेबिनार ऑन बजट एनाउंसमेंट 2021-22: गैल्वनाइजिंग एफर्ट्स फॉर आत्मनिर्भर भारत’ में कहा, ‘‘उन वस्तुओं की अगली सूची जिन्हें आयात नहीं किया जाएगा, उनकी अधिसूचना मार्च 2021 में जारी की जाएगी।’’

नयी दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को कहा कि रक्षा उद्योग से जुड़े वे उत्पाद जिन्हें दूसरे देशों से नहीं मंगाया जाएगा, उन वस्तुओं की सूची अगले माह जारी की जाएगी। रक्षा मंत्री ने यह भी कहा कि निजी क्षेत्रों से रक्षा साजो-सामान की खरीद को 15 प्रतिशत तक ही सीमित नहीं किया जाएगा बल्कि यह इससे कहीं आगे जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बोले, तेजी से आत्मनिर्भरता की ओर आगे बढ़ रहा है भारत 

सिंह ने ‘वेबिनार ऑन बजट एनाउंसमेंट 2021-22: गैल्वनाइजिंग एफर्ट्स फॉर आत्मनिर्भर भारत’ में कहा,‘‘उन वस्तुओं की अगली सूची जिन्हें आयात नहीं किया जाएगा, उनकी अधिसूचना मार्च 2021 में जारी की जाएगी।’’ पिछले वर्ष रक्षा मंत्रालय ने 101 वस्तुओं की एक सूची तैयार की थी जिनके आयात पर रोक रहेगी। सिंह ने 130अरब डॉलर अगले पांच वर्ष में सैन्य आधुनिकीकरण पर खर्च करने की योजना पर भी प्रकाश डाला। 

इसे भी पढ़ें: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 26वें ‘हुनर हाट’ का किया उद्घाटन, कहा- देश की अर्थव्यवस्था में हस्तकार का बड़ा योगदान 

उन्होंने हाल ही में 83 हल्के विमान एम के 1ए, तेजस के निर्माण की जिम्मेदारी एचएएल को सौंपे जाने का जिक्र किया। एम के 1ए का डिजाइन देश में ही तैयार किया गया है और इसका निर्माण भी यही किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हल्के लडाकू हेलीकॉप्टरों के लिए भी अनुबंध शीघ्र किया जाएगा। इनका डिजाइन देश में ही तैयार किया गया है। रक्षा मंत्री ने कहा कि लाइट यूटिलिटी हेलीकॉप्टर (एलयूएच) के लिए आशय पत्र हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड को दिया जाएगा, ताकि हेलीकॉप्टरों को देश के 75वें स्वतंत्रता दिवस पर सशस्त्र बलों में शामिल किया जा सके।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...