IAS पद से इस्तीफा देने के बाद बोले शाह, युवाओं की इच्छानुसार उठाऊंगा अगला कदम

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jan 10 2019 4:35PM
IAS पद से इस्तीफा देने के बाद बोले शाह, युवाओं की इच्छानुसार उठाऊंगा अगला कदम
Image Source: Google

आईएएस पद से इस्तीफा देने के बाद शाह फैसल ने कहा कि अब मैं जो कदम उठाऊंगा वह इस पर निर्भर करेगा कि कश्मीरी लोग, खासकर युवा मुझसे क्या चाहते हैं।

श्रीनगर। भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) से इस्तीफा देने के एक दिन बाद शाह फैसल ने बृहस्पतिवार को कहा कि उनका अगला कदम इस पर निर्भर करेगा कि कश्मीर के लोग, खासकर नौजवान उनसे क्या चाहते हैं। फैसल ने कहा कि सरकारी सेवा छोड़ने के लिए उन्हें आलोचना और सराहना दोनों मिली है और उन्हें इसकी पूरी उम्मीद भी थी। उन्होंने फेसबुक पोस्ट में लिखा, ‘अब मैं सेवा छोड़ चुका हूं। इसके बाद मैं जो कदम उठाऊंगा वह इस पर निर्भर करेगा कि कश्मीरी लोग, खासकर युवा मुझसे क्या चाहते हैं।’

भाजपा को जिताए

इसे भी पढ़ें: कश्मीर में लगातार हो रही हत्याओं के खिलाफ IAS छोड़ने का फैसला

फैसल ने अपने भविष्य के बारे में निर्णय करने से पहले लोगों से सुझाव देने के बारे में भी कहा है। उन्होंने कहा अगर आप फेसबुक/टि्वटर से बाहर निकलकर कल (शुक्रवार) श्रीनगर आएं तो हम साथ मिलकर विचार कर सकते है। फेसबुक लाइक्स और कमेंट से नहीं बल्कि लोगों से मिलकर राजनीति पर फैसला होगा। एमबीबीएस डिग्री धारक फैसल ने कहा कि वह आयोजन स्थल के बारे में बताएंगे क्योंकि उन्हें पता चला है कि कई लोग उनसे मिलने आ रहे हैं। पूर्व आईएएस अधिकारी के नेशनल कांफ्रेंस से जुड़ने की चर्चा है लेकिन उनके फेसबुक पोस्ट से और भी अटकलें तेज हो गयी है।



इसे भी पढ़ें: जदयू नेता नीरज ने मीसा भारती को 'शूर्पणखा' कहा, भाई तेज प्रताप भड़के

उन्होंने कहा कि देखते हैं उन सैकड़ों हजारों लोगों में कितने लोग बात करने आते हैं। नीचे कमेंट में हां टाइप करें। बाद में मत कहिएगा कि मुझे पहले युवाओं से पूछना चाहिए था। जम्मू कश्मीर के आईएएस अधिकारी शाह फैसल ने कश्मीर में कथित हत्याओं और इन मामलों में केंद्र की ओर से गंभीर प्रयास नहीं करने का आरोप लगाते हुए बुधवार को इस्तीफा दे दिया। 35 वर्षीय फैसल ने कहा है कि उनका इस्तीफा, ‘हिंदूवादी ताकतों द्वारा करीब 20 करोड़ भारतीय मुस्लिमों को हाशिये पर डाले जाने की वजह से उनके दोयम दर्जे का हो जाने, जम्मू कश्मीर राज्य की विशेष पहचान पर कपटपूर्ण हमलों तथा भारत में अति-राष्ट्रवाद के नाम पर असहिष्णुता एवं नफरत की बढ़ती संस्कृति के विरुद्ध है।’

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story