एनआईए ने अमरोहा और दिल्ली आतंकी मॉड्यूल मामले में आरोपपत्र दाखिल किया

nia-files-chargesheet-in-amroha-and-delhi-terror-module-case
एनआईए के मुताबिक जांच के दौरान यह पाया गया था कि मॉड्यूल की योजना दिल्ली में और इसके आसपास भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर फिदायीन हमले करने की थी।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने दिल्ली और उत्तर प्रदेश के अमरोहा में एक आतंकी मॉडयूल में संलिप्तता के एक मामले में यहां की एक अदालत में शुक्रवार को 10 संदिग्धों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अजय कुमार ने इस विषय पर विचार करने के लिए चार जुलाई की तारीख तय की है। अमरोहा में एक मदरसे के मुफ्ती मोहम्मद सुहैल सहित आरोपियों के खिलाफ यह आरोपपत्र गैर कानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत दाखिल किया गया है। एनआईए ने अपने 5,000 पृष्ठों के आरोपपत्र में कहा है कि आईएसआईएस से प्रेरित होकर सुहैल ने दिल्ली निवासी मोहम्मद फैज के साथ एक आतंकी मॉड्यूल बनाया और इसे हरकत-उल-हर्ब-ए-इस्लाम नाम दिया। एजेंसी ने कहा कि यह संगठन अपने स्तर से धन जुटाता था। 

इसे भी पढ़ें: NIA ने श्रीलंका ईस्टर धमाकों के हमलावरों से संबंध के संदेह में तमिलनाडु में मारे छापे

गौरतलब है कि पिछले साल एनआईए ने उत्तर प्रदेश और दिल्ली पुलिस के साथ अमरोहा, दिल्ली तथा देश के अन्य इलाकों में छापेमारी की थी। एनआईए के मुताबिक जांच के दौरान यह पाया गया था कि मॉड्यूल की योजना दिल्ली में और इसके आसपास भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर फिदायीन हमले करने की थी।

इसे भी पढ़ें: मालेगांव विस्फोट मामला: प्रज्ञा ठाकुर को कोर्ट में एक दिन के लिए पेशी से मिली छूट

आतंकी संगठन बम बनाने के अंतिम चरण में था क्योंकि छापेमारी के दौरान 25 किग्रा विस्फोटक, एक देशी रॉकेट लॉंचर, 12 पिस्तौल और टाइमर के रूप में इस्तेमाल की जाने वाली 112 घड़ियां बरामद की गई थी।एजेंसी के मुताबिक फैज को अप्रैल में गिरफ्तार किया गया। वह आतंकवादियों से हथियारों का प्रशिक्षण लेने के लिए पिछले साल जम्मू कश्मीर के त्राल, राजौरी और बांदीपुरा भी गया था। 

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़