राजस्थान में 31 मई के बाद भी जारी रहेगा रात्रिकालीन कर्फ्यू

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 30, 2020   07:27
राजस्थान में 31 मई के बाद भी जारी रहेगा रात्रिकालीन कर्फ्यू

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों को निशुल्क इलाज उपलब्ध कराने के लिए निजी अस्पताल मानवीय दृष्टिकोण अपनाते हुए अपनी नैतिक जिम्मेदारी निभाएं। उन्होंने निर्देश दिए कि प्रदेश के राजकीय चिकित्सालयों में मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य सेवाओं की समुचित उपलब्धता सुनिश्चित की जाए।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे को कम से कम करने के लिए 31 मई के बाद भी प्रदेशभर में रात्रिकालीन कर्फ्यू जारी रखा जाए और इसमें किसी तरह की शिथिलता नहीं हो। उन्होंने कहा कि निरूद्ध क्षेत्र का पुनःनिर्धारण सक्रिय संक्रमित मामलों की संख्या के अनुसार किया जाए, ताकि केवल संक्रमित क्षेत्र में ही कफ्र्यू जारी रखा जाए। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा के वरिष्ठ नेता भंवर लाल शर्मा का 95 वर्ष की आयु में निधन

गहलोत शुक्रवार को अपने निवास पर कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर आयोजित उच्च स्तरीय बैठक में समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने निर्देश दिए कि राजस्थान महामारी अध्यादेश के तहत लागू जुर्माने के प्रावधानों में किसी तरह की शिथिलता नहीं बरती जाए। उन्होंने कहा कि यह लोगों के जीवन की रक्षा एवं जनस्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी है। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली के किसान ने श्रमिकों को विमान से भेजा पटना, श्रमिकों ने कहा: हमेशा याद रहेगी पहली उड़ान

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों को निशुल्क इलाज उपलब्ध कराने के लिए निजी अस्पताल मानवीय दृष्टिकोण अपनाते हुए अपनी नैतिक जिम्मेदारी निभाएं। उन्होंने निर्देश दिए कि प्रदेश के राजकीय चिकित्सालयों में मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य सेवाओं की समुचित उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन अथवा कोरोना महामारी की वजह से आमजन को असाध्य एवं अन्य सामान्य बीमारियों के उपचार को लेकर किसी परेशानी का सामना नहीं करना पडे़।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।