राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण से नौ और लोगों की मौत, 1134 नये मामले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 28, 2020   10:58
राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण से नौ और लोगों की मौत,  1134 नये मामले

राजस्थान में संक्रमितों की अब तक की कुल संख्या 37,564 हो गयी जिनमें से 9997 मरीजों का अभी इलाज चल रहा हैं। राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या 633 हो गई है।

जयपुर। राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण से सोमवार को नौ और लोगों की मौत हो गयी जिससे राज्य में संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या 633 हो गई है।   एक अधिकारी ने बताया कि इसके साथ ही राज्य में 1134 नये मामले सामने आने से राज्य में इस घातक वायरस से संक्रमितों की अब तक की कुल संख्या 37,564 हो गयी जिनमें से 9997 मरीजों का अभी इलाज चल रहा हैं। उन्होंने बताया कि सोमवार को बीकानेर में चार, अजमेर में तीन, भरतपुर में दो और मरीजों की मौत दर्ज की गई। इससे राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या 633 हो गई है। 

इसे भी पढ़ें: अशोक गहलोत ने PM मोदी से फोन पर की बात, राजस्थान की मौजूदा गतिविधियों से कराया अवगत 

केवल जयपुर में कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों की संख्या 182 हो गयी है जबकि जोधपुर में 79, भरतपुर में 51, अजमेर में 38,बीकानेर में 34, कोटा में 33, पाली में 24, नागौर में 23 और धौलपुर में 15 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। अन्य राज्यों के 34 रोगियों की भी यहां मौत हुई है। उन्होंने बताया कि सोमवार की रात साढे आठ बजे तक 1134 नये मामले आए जिनमें अलवर में 247, जोधपुर में 184, जयपुर में 80, अजमेर में 79, कोटा में 65,राजसमंद में 44, पाली में 43, सिरोही में 42, बाडमेर में 39, नागौर में 38, झुंझुनूं में 36, सीकर में 33, भीलवाडा में 26, जालौर में 23, उदयपुर में 22, बूंदी में 19, गंगानगर में 16, धौलपुर में 14, भरतपुर में 12, बीकानेर में 11, बांसवाडा में 10 नये मामले शामिल हैं। राज्यभर में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण कई थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा हुआ है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।