नित्यानंद राय ने 500 बिस्तर वाले कोविड अस्पताल की शुरुआत की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 25, 2020   09:45
नित्यानंद राय ने 500 बिस्तर वाले कोविड अस्पताल की शुरुआत की

नित्यानंद ने कहा कि 500 बिस्तर के इस अस्पताल में 125 वेंटिलेटर युक्त आईसीयू बिस्तर और 375 सामान्य बिस्तर हैं। सात मंजिला ईएसआईसी अस्पताल में हर बेड पर ऑक्सीजन उपलब्ध है। डॉक्टर, नर्स और अन्य सहयोग कर्मी भारतीय सेना के होंगे।

पटना। केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने पीएम केयर्स फंड से बिहार के पटना जिले के बिहटा में 500 बिस्तर वाले कोविड देखभाल अस्पताल का सोमवार को उद्घाटन किया। यह अस्पताल दिल्ली के सरदार वल्लभ भाई पटेल मेकशिफ्ट अस्पताल की तर्ज पर बनाया गया है। नित्यानंद ने अस्पताल के उद्घाटन के मौके पर कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में जिस तरह से देश कोरोना महामारी से लड़ रहा है और सफलता भी प्राप्त कर रहा है उसी कड़ी में यहां अस्पताल का उद्घाटन किया गया है।

उन्होंने बिहार के लोगों को यह भरोसा दिलाया कि प्रधानमंत्री ने कोविड-19 की लड़ाई में राज्य की काफी मदद की है और आगे भी यह जारी रहेगा। राय ने कहा कि इस अस्पताल में सारी सुविधाएं निशुल्क उपलब्ध हैं और कोई भी कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति बिना रेफर के सीधे इलाज के लिए आ सकता है। नित्यानंद ने कहा कि 500 बिस्तर के इस अस्पताल में 125 वेंटिलेटर युक्त आईसीयू बिस्तर और 375 सामान्य बिस्तर हैं। सात मंजिला ईएसआईसी अस्पताल में हर बेड पर ऑक्सीजन उपलब्ध है। डॉक्टर, नर्स और अन्य सहयोग कर्मी भारतीय सेना के होंगे। 

इसे भी पढ़ें: बिहार में बन रहे 500 बेड वाले दो कोरोना हॉस्पिटल को फंड देगा पीएम केयर्स फंड ट्रस्ट

प्रधानमंत्री ने पीएम केयर्स फंड से बिहार में 500-500 बिस्तर के दो बड़े अस्पतालों को खोलने का ऐलान किया था जिसमें से एक अस्पताल का उद्घाटन आज कर दिया गया तथा दूसरा अस्पताल जल्द ही बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में बनकर तैयार हो जाएगा। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन द्वारा कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई के लिए बिहार के पटना और मुजफ्फरपुर में ये अस्पताल बनाए गए हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।