CM योगी का था आदेश, किसी भी बच्चे को नहीं आनी चाहिए खरोंच

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 31, 2020   18:23
CM योगी का था आदेश, किसी भी बच्चे को नहीं आनी चाहिए खरोंच

अपराध और अपराधियों से किसी तरह का समझौता नहीं करने की नीति पर काम करने का दावा करने वाले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फर्रुखाबाद मामले में पुलिस-प्रशासन के आला अधिकारियों को स्पष्ट आदेश दिया था कि पूरी कार्रवाई के दौरान एक भी बच्चे को खरोंच नहीं आनी चाहिए।

लखनऊ। अपराध और अपराधियों से किसी तरह का समझौता नहीं करने की नीति पर काम करने का दावा करने वाले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फर्रुखाबाद मामले में पुलिस-प्रशासन के आला अधिकारियों को स्पष्ट आदेश दिया था कि पूरी कार्रवाई के दौरान एक भी बच्चे को खरोंच नहीं आनी चाहिए। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री का स्पष्ट आदेश था कि बच्चों को किसी भी सूरत में सुरक्षित बचाया जाए और किसी बच्चे को एक भी खरोंच नहीं आनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: फर्रुखाबाद में ''ऑपरेशन मासूम'' खत्म, 8 घंटे बंधक बने सभी बच्चों को सुरक्षित निकाला गया

प्रवक्ता ने कहा कि गुरुवार शाम घटना की जानकारी मिलते ही मुख्यमंत्री ने तत्काल सभी बैठकें और महत्वपूर्ण कार्यक्रम रद्द कर दिये और तुरंत संकट प्रबंधन टीम (क्राइसिस मैनेजमेंट टीम) की आपात बैठक बुलायी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री तब तक इस इस अभियान की निगरानी करते रहे, जब तक एक एक बच्चा सकुशल अपने घर नहीं पहुंच गया। प्रवक्ता के अनुसार मुख्यमंत्री ने साफ शब्दों में कहा था कि एक भी बच्चे को खरोंच नहीं आनी चाहिए। हमारी प्राथमिकता सिर्फ और सिर्फ बच्चों को जल्द से जल्द सुरक्षित छुड़ाने की होनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: नशे में धुत व्यक्ति ने 15 बच्चों और महिलाओं को बनाया बंधक, पुलिस छुड़ाने में जुटी

उल्लेखनीय है कि करीब नौ घंटे के लंबे अभियान में बच्चों को बंधक बनाकर रखने वाले पति-पत्नी सुभाष बाथम और रूबी को मार गिराया गया और सभी बच्चों को सुरक्षित बचा लिया गया। प्रवक्ता ने बताया कि घटना के तत्काल बाद मुख्यमंत्री योगी ने कानपुर रेंज के सभी अधिकारियों को मौके पर पहुंचने को कहा। साथ ही एटीएस (आतंकवाद रोधी दस्ता) का एक दस्ता घटनास्थल के लिए रवाना किया गया। अपराधी के उग्र होने की खबर मिलते ही मुख्यमंत्री ने बीच बैठक के बीच से एडीजी एटीएस को भी घटनास्थल पर भेज दिया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...