मलबे में बदला ट्विन टावर, योजनाबद्ध तरीके से दिया गया अंजाम, हाउसिंग सोसाइटियों को नहीं हुआ कोई नुकसान

Supertech Twin Towers
ANI Image
नोएडा की सीईओ रितु माहेश्वरी ने बताया कि आस-पास की हाउसिंग सोसाइटियों को कोई नुकसान नहीं हुआ है। अभी कुछ मलबा सड़क की तरफ आया है। हमें एक घंटे में स्थिति का बेहतर अंदाजा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि सफाई की जा रही है, इलाके में गैस और बिजली की आपूर्ति बहाल कर दी जाएगी।

नोएडा। नोएडा में सुपरटेक का ट्विन टॉवर जमींदोज हो चुका है। आपको बता दें कि विस्फोटों के जरिए अवैध रूप से बनाए गए 100 मीटर ऊंचे ट्विन टॉवर को चंद सेकंड में 'वाटरफॉल इम्प्लोजन' तकनीक से ढहा दिया गया। इसके बाद एडिफिस, जेट डिमोलिशन, सीबीआरआई और नोएडा के अधिकारियों की टीम ने आसपास की इमारतों का ढांचागत विश्लेषण शुरू किया।

इसे भी पढ़ें: चंद सेकंड में जमींदोज हो गया ट्विन टावर, ब्लास्ट करने के लिए खर्च किए गए 18 करोड़, आपात स्थिति के लिए कड़े इंतेजाम 

ट्विन टावर के जमींदोज होने की वजह से आस-पास की हाउसिंग सोसाइटियों को कोई नुकसान नहीं हुआ है। लेकिन धूल का गुब्बार काफी देर तक आसमान में दिखाई दिया। ऐसे में धूल को स्थिर करने के लिए पानी को स्प्रे करने के लिए एंटी-स्मॉग गन का इस्तेमाल किया गया।

सोसाइटियों को नहीं हुआ कोई नुकसान

इसी बीच नोएडा की सीईओ रितु माहेश्वरी का बयान सामने आया। जिसमें उन्होंने बताया कि एक घंटे में स्थिति साफ हो जाएगी। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, नोएडा की सीईओ रितु माहेश्वरी ने बताया कि आस-पास की हाउसिंग सोसाइटियों को कोई नुकसान नहीं हुआ है। अभी कुछ मलबा सड़क की तरफ आया है। हमें एक घंटे में स्थिति का बेहतर अंदाजा हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि सफाई की जा रही है, इलाके में गैस और बिजली की आपूर्ति बहाल कर दी जाएगी और शाम 6 बजकर 30 मिनट के बाद लोगों को पड़ोसी सोसायटी में प्रवेश की अनुमति होगी।

इसे भी पढ़ें: सेल्फी स्पॉट बना सुपरटेक का ट्विन टावर, ढहती इमारत को देखने के लिए बुक करा रहे सोसायटी की बालकनी 

योजनाबद्ध तरीके से ढहाया गया

टावर नोएडा पुलिस आयुक्त ने बताया कि पूरे प्लान के साथ काम किया गया और टावर को गिराया गया। सुरक्षा के पूरे इंतज़ाम थे जिस कारण से सब कुछ सही से हुआ। हम अवशेष और बचे हुए विस्फोटकों का आकलन करने के लिए साइट पर जा रहे हैं यदि वे वहां छोड़े गए हैं।

अन्य न्यूज़