Prabhasakshi NewsRoom । दिल्ली में जहरीली हवा से अभी नहीं मिलेगी कोई राहत, UP में चढ़ा राजनीतिक पारा

Prabhasakshi NewsRoom । दिल्ली में जहरीली हवा से अभी नहीं मिलेगी कोई राहत, UP में चढ़ा राजनीतिक पारा

इस बात की उम्मीद की जा रही है कि आने वाले दिनों में पराली से होने वाला धुआं जरूर कम होगा। प्रदूषण से हरियाणा और पंजाब समेत आसपास के राज्यों को थोड़ी राहत जरूर मिलेगी लेकिन दिल्ली में हवा की गति धीमी होने की वजह से प्रदूषक तत्व बना रहेगा।

दिल्ली में वायु प्रदूषण से स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही है। आज भी सुबह सवेरे कोहरे और धुंध के चलते स्मॉग की मोटी परत छाई रही। प्रदूषण की वजह से राष्ट्रीय राजधानी में आंखों में जलन और गले में खराश की शिकायत भी आ रही है। हालांकि, मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली में प्रदूषण से फिलहाल निजात मिलने की उम्मीद काफी कम है। दिल्ली की वायू गुणवत्ता सूचकांक बेहद ही खराब श्रेणी में है। हालांकि, इस बात की उम्मीद की जा रही है कि आने वाले दिनों में पराली से होने वाला धुआं जरूर कम होगा। प्रदूषण से हरियाणा और पंजाब समेत आसपास के राज्यों को थोड़ी राहत जरूर मिलेगी लेकिन दिल्ली में हवा की गति धीमी होने की वजह से प्रदूषक तत्व बना रहेगा।

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi's NewsRoom । फारूक अब्दुल्ला का पाक राग, मुसलमानों को लेकर कही डराने वाली बात

दूसरी ओर दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के मद्देनजर उनकी सरकार ने अगले आदेश तक स्कूल तथा अन्य शैक्षणिक संस्थान बंद रखने और आवश्यक सेवाओं के अलावा, बाहर से आने वाले वाहनों के शहर में प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है। इसके साथ ही दिल्ली सरकार के कर्मचारियों के लिए ‘वर्क फ्रॉम होम’ की व्यवस्था रविवार तक जारी रहेगी।

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi's NewsRoom । राजस्थान में मुख्यमंत्री के सामने ही खुल गई भ्रष्टाचार की पोल, जानें फिर क्या हुआ

भाजपा का निशाना

उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक पारा लगातार चढ़ता जा रहा है। भाजपा और मुख्य विपक्षी पार्टी समाजवादी पार्टी के बीच जुबानी जंग भी तेज होते जा रही है। हाल में ही समाजवादी पार्टी के प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने एक संबोधन में मोहम्मद अली जिन्ना का जिक्र किया था जिसके बाद से लगातार वह भाजपा के निशाने पर हैं। इसी कड़ी में आज उन पर निशाना साधते हुए उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने जबरदस्त तंज कसा है। अखिलेश यादव पर हमला करते हुए केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि उन्हें अपना नाम बदलकर अखिलेश अली जिन्ना रख लेना चाहिए। साथ ही अपनी पार्टी का भी नाम जिन्नावादी पार्टी रख लेना चाहिए। 

यूपी के उपमुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि उनके साथ गुंडे, अपराधी माफिया हैं। मौर्य ने यह भी कहा कि तुष्टीकरण के कारण उनके साथ अब जिन्ना मियां भी आ गए हैं। इसलिए मैं कह सकता हूं कि वह अपना नाम बदलकर अखिलेश अली जिन्ना रख लें तथा पार्टी का नाम जिन्नावादी पार्टी रख लें। इसके बाद केशव मौर्य ने यह भी कहा कि अखिलेश और उनकी पार्टी को ना तो जिन्ना जीता पाएंगे और ना ही अतीक अहमद और अंसारी जीता पाएंगे। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता भाजपा के साथ है और नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा एक बार फिर से 300 से ज्यादा सीटें हासिल करेगी।

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi's NewsRoom । शराबबंदी कानून का उल्लंघन करने वालों की खैर नहीं, नीतीश ने दिए सख्त निर्देश

मोदी का संबोधन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डाटा को डिजिटल युग में सबसे महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि भारत ने इसकी सुरक्षा एवं निजता की रक्षा के लिए मजबूत ढांचा विकसित किया है और वह इसका इस्तेमाल लोगों के सशक्तीकरण के स्रोत के रूप में करता है। प्रधानमंत्री मोदी ने ऑस्ट्रेलिया की ओर से आयोजित ‘‘सिडनी संवाद’’ को डिजिटल माध्यम से संबोधित करते हुए कहा कि डिजिटल युग ने राजनीति, अर्थव्यवस्था और समाज को पुनर्भाषित किया है और यह सार्वभौमिकता, शासन, नीति, कानूनों, अधिकारों और सुरक्षा को लेकर नए सवाल भी खड़े कर रहा है। उन्होंने कहा कि यह अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा, ताकत और नेतृत्व को भी पुनर्भाषित कर रहा है। इसने प्रगति और समृद्धि के नए अवसरों को भी पैदा किया है। 

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi NewsRoom । दिल्ली में प्रदूषण से जंग, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फटकार, कश्मीर में ग्रेनेड हमला

प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच रणनीतिक साझेदारी को क्षेत्र एवं दुनिया के लिए एक कल्याणकारी ताकत बताया। उन्होंने डिजिटल युग में डाटा को सबसे महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि भारत में हमने डाटा सुरक्षा, निजता और सुरक्षा के लिए एक मजबूत ढांचा तैयार किया है। साथ ही साथ हम इसका उपयोग लोगों के सशक्तीकरण के स्रोत के रूप में कर रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत को लोकतांत्रिक व्यवस्था में लोगों के निजी अधिकारों की रक्षा करते हुए ऐसा करने का बहुत अनुभव है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।