ओडिशा में जेईई और नीट परीक्षा वाले शहरों से हटेगा प्रतिबंध, छात्रों को मिलेगी मुफ्त परिवहन सेवा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 29, 2020   17:37
ओडिशा में जेईई और नीट परीक्षा वाले शहरों से हटेगा प्रतिबंध, छात्रों को मिलेगी मुफ्त परिवहन सेवा

अधिसूचना में कहा गया, “जिन सात शहरों में परीक्षा आयोजित होगी वहां 30 अगस्त से सात सितंबर (जेईई) और नौ सितंबर से 14 सितंबर (नीट) के बीच लॉकडाउन या शटडाउन लागू नहीं होंगे।”

भुवनेश्वर। ओडिशा सरकार ने राज्य के उन सात शहरों से प्रतिबंध (शटडाउन) हटा दिया है जहां जेईई और नीट परीक्षा होने वाली है। एक अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी। सात शहरों से प्रतिबंध हटाने की अधिसूचना जारी किए जाने से पहले शुक्रवार को मुख्य सचिव ए के त्रिपाठी ने घोषणा की थी कि जेईई (मेन) और नीट परीक्षा देने वाले छात्रों को राज्य सरकार मुफ्त परिवहन सेवा और रहने की व्यवस्था उपलब्ध कराएगी। विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) कार्यालय ने सुचारु रूप से परीक्षा कराने के लिए दिशा निर्देश जारी किए हैं। 

इसे भी पढ़ें: झारखंड सरकार ने अनलॉक-4 के निर्देश किए जारी, छात्रों की सुविधा के लिए होटल-लॉज खोले 

अधिसूचना में कहा गया, “जिन सात शहरों में परीक्षा आयोजित होगी वहां 30 अगस्त से सात सितंबर (जेईई) और नौ सितंबर से 14 सितंबर (नीट) के बीच लॉकडाउन या शटडाउन लागू नहीं होंगे।” वर्तमान में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए चार जिलों- कटक, खुर्दा, गंजाम और गजपति जिलों में द्वि-साप्ताहिक शटडाउन लागू है। 

इसे भी पढ़ें: 2021 के चुनाव में भाजपा की राजनीतिक महामारी को हराना है: ममता बनर्जी 

अधिसूचना में कहा गया कि सभी अभ्यर्थियों, उनके माता पिता और परीक्षा कर्मियों को उनके निवास स्थान से उन शहरों या केंद्रों तक जाने की अनुमति होगी जहां परीक्षा आयोजित होनी है और इसके लिए वह निजी या सार्वजनिक वाहन का प्रयोग कर सकते हैं। राज्य भर में आवागमन के लिए अभ्यर्थी का प्रवेश पत्र मान्य होगा। इसके अलावा परीक्षा कर्मी अपनी तैनाती के संबंध में दस्तावेज प्रस्तुत कर परीक्षा केंद्र तक पहुंच सकेंगे। एसआरसी पी के जेना ने परीक्षा आयोजकों से कहा है कि परीक्षा केंद्रों पर कोविड-19 से सुरक्षा और साफ सफाई के सभी उपाय किए जाएं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।