सब्सिडी में अगर कोई खामी है तो उसे दूर किया जाना चाहिए: मनमोहन सिंह

not-all-subsidies-are-bad-some-promote-equity-in-development-says-manmohan-singh
पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि कुछ सब्सिडी विकास में निष्पक्षता को बढ़ावा देती हैं। पूर्व प्रधानमंत्री ने दिवंगत महेश नीलकंठ बुच की लिखी एक पुस्तक के विमोचन के मौके पर यहां कहा कि पूर्व आईएएस अधिकारी ने देश के भविष्य के विकास के लिए अच्छे विचार प्रदान किए थे।

नयी दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मंगलवार को कहा कि हर सब्सिडी बुरी नहीं होती हैं और यदि उसमें कोई खामी है तो उसे दूर किया जाना चाहिए, ना कि सब्सिडी को ही बंद कर देना चाहिए। सिंह ने कहा कि कुछ सब्सिडी विकास में निष्पक्षता को बढ़ावा देती हैं। पूर्व प्रधानमंत्री ने दिवंगत महेश नीलकंठ बुच की लिखी एक पुस्तक के विमोचन के मौके पर यहां कहा कि पूर्व आईएएस अधिकारी ने देश के भविष्य के विकास के लिए अच्छे विचार प्रदान किए थे।

इसे भी पढ़ें: महान वक्ता और प्रशासक थे जयपाल रेड्डी, जनता के लिए न्यौछावर किया अपना जीवन

उन्होंने पुस्तक के विभिन्न अध्यायों का उल्लेख करते हुए कहा, ‘महेश ने सब्सिडी की भूमिकाओं पर काफी सोच समझकर एक अध्याय लिखा है। मैं उनके इस निष्कर्ष से सहमत हूं कि सभी सब्सिडी बुरी नहीं होती हैं और अगर उनमें कोई खामी है तो उन्हें दूर किया जाना चाहिए, ना कि सब्सिडी को ही बंद कर देना चाहिए...।’ बुच 1957 बैच के आईएएस अधिकारी थे। वह कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में सिंह के समकालिक थे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़