दिल्ली विधानसभा चुनाव में NRC और CAA का कोई असर नहीं होगा: राघव चड्ढा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 23, 2020   18:29
दिल्ली विधानसभा चुनाव में NRC और CAA का कोई असर नहीं होगा: राघव चड्ढा

पिछली बार उन्होंने दक्षिण दिल्ली से लोकसभा चुनाव लड़ा था और हार गये थे। यह पूछे जाने पर कि आसन्न विधानसभा चुनाव में सीएए एवं एनआरसी का कोई असर होगा, उन्होंने कहा कि बिल्कुल नहीं क्योंकि इस चुनाव में मुद्दे राज्य के ही होंगे।

नयी दिल्ली। आम आदमी पार्टी के राजिंदर नगर विधानसभा क्षेत्र के उम्मीदवार राघव चड्ढा ने कहा है कि संशोधित नागरिकता कानून एवं राष्ट्रीय नागरिक पंजी का दिल्ली विधानसभा चुनाव में कोई असर नहीं होगा और यह चुनाव राज्य विषयों पर लड़ा जाएगा। राघव (31) पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ रहे हैं। हालांकि, यह पहला मौका नहीं है जब वह चुनाव का सामना कर रहे हैं। पिछली बार उन्होंने दक्षिण दिल्ली से लोकसभा चुनाव लड़ा था और हार गये थे। यह पूछे जाने पर कि आसन्न विधानसभा चुनाव में सीएए एवं एनआरसी का कोई असर होगा, उन्होंने कहा, ‘‘बिल्कुल नहीं क्योंकि इस चुनाव में मुद्दे राज्य के ही होंगे। ये सभी मुद्दे राष्ट्रीय महत्व के हैं और मैं व्यक्तिगत तौर पर यह महसूस करता हूं कि इसका दिल्ली चुनाव में कोई असर नहीं होगा।’’

आप प्रवक्ता ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी चुनाव से माहौल के ‘‘ध्रुवीकरण’’ का प्रयास कर सकती है। राघव ने में कहा, ‘‘हालांकि, मेरा मानना है कि दिल्ली के लोग बुद्धिमान हैं और भारतीय जनता पार्टी के दुष्प्रचार को समझेंगे।’’ उन्होंने कहा कि पिछले विधानसभा चुनावों मेंलोगों ने राष्ट्रीय मुद्दों को दरकिनार कर दिया था और राज्य से जुड़े मुद्दे पर ही ध्यान केंद्रित किया। आप नेता ने कहा, ‘‘राष्ट्रीय मुद्दे के आम चुनावों के लिए होते है और विधानसभा चुनाव के लिए राज्य के मुद्दे ही होते हैं। झारखंड में भाजपा ने राष्ट्रीय मुद्दे के बारे में लोगों को बताया और वहां उठाया और पार्टी को चुनाव में हार का सामना करना पड़ा। पार्टी ने यही काम हरियाणा में किया और उन्हें बहुमत नहीं मिला।’’ उन्होंने कहा, ‘‘बिजली, पानी, शिक्षा, सीवर प्रणाली और बस जैसे स्थानीय मुद्दों की चुनावों में प्रधानता होगी जो दैनिक जीवन को प्रभावित करते हैं। पिछले साल के लोकसभा चुनाव को एक बेहतर अनुभव बताते हुए राघव ने कहा कि इस चुनाव में उनकी हार रमेश विधूड़ी से नहीं बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हुई है।  

इसे भी पढ़ें: खट्टर-विज विवाद पर बोले हुड्डा, लड़ाई के अलावा सरकार नहीं कर रही कोई और काम

गौरतलब है कि आम चुनाव में रमेश विधूड़ी से राघव चड्ढा तीन लाख से अधिक मतों से चुनाव हार गए थे। विधानसभा चुनाव को ‘‘केजरीवाल बनाम कौन’’ बताते हुए उन्होंने कहा, ‘‘मैं यह चुनाव रमेश विधूड़ी से नहीं हारा। मेरे खिलाफ मोदी की जीत हुई था।’’ उन्होंने इस बात पर जोर दिया, ‘‘मेरा मानना है कि आम आदमी पार्टी एक बार फिर इस चुनाव जीत हासिल करने जा रही है और हम संभवत: 2015 के चुनाव परिणाम से भी बेहतर परिणाम हासिल करेंगे।’’ यह पूछे जाने पर कि भाजपा के आर पी सिंह ने कहा है कि राघव के पास विधानसभा चुनाव लड़ने का अनुभव नहीं है, आप उम्मीदवार ने कहा कि वह स्वीकार कर रहे हैं कि उनके पास अनुभव की कमी है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं स्वीकार करता हूं कि जब सांप्रदायिक भ्रष्ट राजनीति करने की बात हो तो मेरे पास अनुभव नहीं। जब चुनाव क्षेत्र के लोगों को भुलाने की बात हो तो मेरे पास अनुभव की कमी है।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।