रायपुर एम्स के नर्सिंग अधिकारी को हुआ कोरोना, राज्य में कुल मामले 37 हुए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 25, 2020   07:58
रायपुर एम्स के नर्सिंग अधिकारी को हुआ कोरोना, राज्य में कुल मामले 37 हुए

एम्स रायपुर ने अपने ट्विटर एकाउंट से ट्वीट किया, ‘‘एम्स रायपुर के एक नर्सिंग अधिकारी में कोविड- 19 की पुष्टि हुई है। यह बहादुर कोरोना योद्धा कोविड-19 वार्ड में तैनात था। वह 10 दिनों की ड्यूटी के बाद 14 अप्रैल से क्वारंटाइन में था। हम उसकी देखभाल करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’’

रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के नर्सिंग अधिकारी में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है। इस मामले के साथ ही राज्य में अभी तक 37 लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है। एम्स के अधिकारियों ने शुक्रवार को यहां बताया कि एम्स में कार्यरत पुरूष नर्सिंग अधिकारी में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुई है। नर्सिंग अधिकारी को एम्स के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। अधिकारियों ने बताया कि यह अधिकारी 14 अप्रैल तक एम्स के कोविड 19 वार्ड में तैनात थे। बाद में उन्हें होम क्वारंटाइन में रहने के लिए घर भेज दिया गया था। 

इसे भी पढ़ें: कोटा में कोचिंग ले रहे 5 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश के 18 हजार छात्र अपने-अपने घर पहुंचे

उन्होंने बताया कि शुक्रवार को जब नर्सिंग अधिकारी में कोरोना वायरस का लक्षण दिखा तब उसके नमूने को जांच के लिए भेजा गया। बाद में उसमें कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि की गई। एम्स रायपुर ने अपने ट्विटर एकाउंट से ट्वीट किया, ‘‘एम्स रायपुर के एक नर्सिंग अधिकारी में कोविड- 19 की पुष्टि हुई है। यह बहादुर कोरोना योद्धा कोविड-19 वार्ड में तैनात था। वह 10 दिनों की ड्यूटी के बाद 14 अप्रैल से क्वारंटाइन में था। हम उसकी देखभाल करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’’ राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण का नया मामला सामने आने के बाद अब 37 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है, जबकि 30 लोगों को इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई है। अधिकारियों ने बताया कि रायपुर स्थित एम्स में सात लोगों का इलाज किया जा रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।