अनुच्छेद 370 खत्म होने के लिए माता वैष्णो देवी का करें विशेष धन्यवाद: जितेंद्र सिंह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 30, 2019   08:51
अनुच्छेद 370 खत्म होने के लिए माता वैष्णो देवी का करें विशेष धन्यवाद: जितेंद्र सिंह

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री जितेन्द्र सिंह ने कहा कि अनुच्छेद 370 समाप्त करने के बाद यह पहली नवरात्रि है।

जम्मू। केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने रविवार को श्रद्धालुओं से कहा कि वे माता वैष्णो देवी का धन्यवाद करें कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त कर दिया गया। मंदिर में पूजा करने आए सिंह ने कहा कि राज्य को 31 अक्टूबर से दो केंद्र शासित प्रदेशों में आसानी से विभक्त होने के लिए भी प्रार्थना करने की जरूरत है। उन्होंने राज्यपाल के सलाहकार के के शर्मा के साथ कटरा में नवरात्रि उत्सव का उद्घाटन करने के बाद ये बातें कहीं। केंद्र ने पांच अगस्त को अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म कर दिया था और राज्य को दो केंद्र शासित क्षेत्रों- जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बांट दिया था।

इसे भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर में कोई पाबंदी नहीं है, पाबंदियां सिर्फ आपके दिमाग में हैं: अमित शाह

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री सिंह ने कहा कि अनुच्छेद 370 समाप्त करने के बाद यह पहली नवरात्रि है। हम इसके लिए माता का धन्यवाद करें क्योंकि हमारी तीन पीढ़ियां गुजर गईं (दुनिया छोड़ गईं) और हमें भी उम्मीद नहीं थी कि अपने जीवनकाल में हम जम्मू-कश्मीर का भारत में पूरी तरह विलय देख पाएंगे। कटरा शहर में नवरात्रि त्योहार की शुरुआत में आयोजित ‘शोभा यात्रा’ में हिस्सा लेने देश भर से आए श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा कि राज्य को विभाजित करने की प्रक्रिया सुचारू रूप से चलने के लिए भी हमें प्रार्थना करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हम देश से और खासकर जम्मू-कश्मीर से आतंकवाद का पूरी तरह खात्मा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।