370 पर बोले उमर अब्दुल्ला, 5 अगस्त 2019 को कुछ लोग गलतफहमी के शिकार हुए, खामियाजा हम सबको भुगतना पड़ा

370 पर बोले उमर अब्दुल्ला, 5 अगस्त 2019 को कुछ लोग गलतफहमी के शिकार हुए, खामियाजा हम सबको भुगतना पड़ा
ANI

पुंछ में एक कार्यक्रम के दौरान जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि आज कोई यह नहीं कह सकता है कि 5 अगस्त 2019 के बाद उनकी ज़िंदगी में कोई बेहतरी आई है। हमें कहा गया कि 370 गया तो यहां डर का माहौल ख़त्म हो जाएगा। लेकिन, वो डर और बढ़ गया है। उसमें कोई कमी नहीं आई है।

नेशनल कांफ्रेंस के नेता और जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला लगातार केंद्र सरकार और भाजपा पर हमलावर रहते हैं। जब से जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 को हटाया गया है तब से वे अक्सर भाजपा और केंद्र सरकार पर हमला करते हैं। इन सबके बीच आज एक बार फिर से 5 अगस्त 2019 का जिक्र करते हुए उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से भाजपा पर निशाना साधा है। न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक उमर अब्दुल्ला ने कहा कि 5 अगस्त 2019 को बहुत कुछ हुआ और आखिर वह हुआ क्यों, क्योंकि हम बंट गए। हम बिखर गए। 

इसे भी पढ़ें: कश्मीरी पंडित की हत्या के संबंध में अब्दुल्ला आवास पर हुई गुपकर गठबंधन की बैठक, तारिगामी बोले- लाठियों के इस्तेमाल पर लगे रोक

इसके साथ ही उन्होंने आगे कहा कि अलग-अलग तराजू में हमें तोला गया। कुछ लोगों का ईमान खरीदा गया। कुछ गलतफहमी के शिकार हो गए। लेकिन, खामियाजा हम सबको भुगतना पड़ा। पुंछ में एक कार्यक्रम के दौरान जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि आज कोई यह नहीं कह सकता है कि 5 अगस्त 2019 के बाद उनकी ज़िंदगी में कोई बेहतरी आई है। हमें कहा गया कि 370 गया तो यहां डर का माहौल ख़त्म हो जाएगा। लेकिन, वो डर और बढ़ गया है। उसमें कोई कमी नहीं आई है। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या की निंदा की, सरकार को निर्णायक कदम उठाने को कहा

इससे पहले लाउडस्पीकर विवाद को लेकर जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला का बयान सामने आया था। उन्होंने कहा था हमारे मज़हब में सियासत के लिए गलत माहौल बनाया जा रहा है। सिर्फ हिजाब की बात नहीं है, हमें कहा जा रहा है कि मस्जिदों में लाउडस्पीकर इस्तेमाल नहीं होना चाहिए। अगर बाकि जगहों पर लाउडस्पीकर है तो मस्जिद में क्यों नहीं? ये हमे छेड़ने के लिए जानबूझकर किया जा रहा है। क्योंकि बाकी टाइम लाइट रहती है, लेकिन शहरी और इफ्तार के वक्त अचानक लाइट नहीं होती। कुछ तो हमारे जज्बातों को कद्र करिए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।