Omicron ने बढ़ाई भारत की चिंता, मुंबई में दो और नए केस, देश में कुल संक्रमितों की संख्या 23 हुई

Omicron ने बढ़ाई भारत की चिंता, मुंबई में दो और नए केस, देश में कुल संक्रमितों की संख्या 23 हुई

यह दोनों शख्स 25 नवंबर को भारत आए थे। हालांकि बताया यह भी जा रहा है कि दोनों मरीजों में फिलहाल कोई लक्षण नहीं है लेकिन उन्हें मुंबई के सेवन हिल्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। दोनों शख्स ने फाइजर की वैक्सीन लगवाई है।

कोरोना का नया वेरिएंट ओमीक्रोन अब भारत में अपने पैर पसार रहा है। इसी कड़ी में आज ओमीक्रोन के 2 नए मामले मुंबई में मिले हैं। इसके साथ ही अब महाराष्ट्र में ओमीक्रोन मामलों की कुल संख्या 10 हो गई है और देश में यह संख्या 23 हो गई है। आज जो मामले मिले हैं उनमें दक्षिण अफ्रीका से वापसी करने वाला एक शख्स है और उसके साथ अमेरिकी रिटर्न दोस्त भी है। यह दोनों शख्स 25 नवंबर को भारत आए थे। हालांकि बताया यह भी जा रहा है कि दोनों मरीजों में फिलहाल कोई लक्षण नहीं है लेकिन उन्हें मुंबई के सेवन हिल्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। दोनों शख्स ने फाइजर की वैक्सीन लगवाई है। 

इससे पहले रविवार को कोविड-19 के ओमीक्रोन स्वरूप के 17 और मामले सामने आए जिनमें नौ मामले राजस्थान की राजधानी जयपुर में, सात महाराष्ट्र के पुणे जिले में और एक मामला दिल्ली का था। इसके साथ ही देश में ओमीक्रोन के मामलों की कुल संख्या 21 हो गई थी। जो लोग संक्रमित पाए गए हैं उनमें से अधिकतर हाल में अफ्रीकी देशों से आए हैं या इस तरह के लोगों के संपर्क में थे। इसके साथ ही चार राज्यों और राष्ट्रीय राजधानी में ज्यादा संक्रामक स्वरूप के मामले सामने आए हैं। जयपुर में जो नौ लोग संक्रमित पाए गए हैं उनमें एक ही परिवार के चार सदस्य शामिल हैं जो हाल में दक्षिण अफ्रीका से लौटे हैं। 

भारत में ओमीक्रोन से फरवरी में आ सकती है तीसरी लहर

सार्स-कोवी-2 के नये स्वरूप ओमीक्रोन से कोरोना वायरस महामारी की तीसरी लहर फरवरी में चरम पर पहुंच सकती है, जब देश में प्रतिदिन एक लाख से डेढ़ लाख तक मामले सामने आने की संभावना है। कोविड-19 के गणितीय अनुमान में शामिल भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान के वैज्ञानिक मनिंद्र अग्रवाल ने यह कहा है। उन्होंने कहा कि नये अनुमान में, ओमीक्रोन स्वरूप को एक कारक के तौर पर शामिल किया गया है। अग्रवाल ने कहा कि नये स्वरूप के साथ, हमारा मौजूदा अनुमान यह है कि देश में फरवरी तक तीसरी लहर आ सकती है लेकिन यह दूसरी लहर से हल्की होगी। अब तक हमने देखा है कि ओमीक्रोन से होने वाले संक्रमण की गंभीरता डेल्टा स्वरूप की तरह नहीं है। हालांकि, उन्होंने कहा कि दक्षिण अफ्रीका में सामने आए मामलों पर करीबी नजर रखी जा रही है, जहां इस नये स्वरूप के कई मामले सामने आए हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।