CBI को गृह मंत्रालय की इजाजत पर जैन ने कहा: आरोप हास्यास्पद, समझ से परे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 30, 2018   17:09
CBI को गृह मंत्रालय की इजाजत पर जैन ने कहा: आरोप हास्यास्पद, समझ से परे

स्वास्थ्य, शहरी, विकास, पीडब्ल्यूडी समेत अन्य प्रभार संभालने वाले जैन ने आरोप लगाया कि भाजपा नीत सरकार शहर में अनधिकृत कॉलोनियों को गिराना चाहती है। राष्ट्रीय राजधानी में करीब 1700 अनधिकृत कॉलोनी है।

नयी दिल्ली। केंद्र द्वारा दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के खिलाफ एक मामले में सीबीआई को मुकदमा चलाने की अनुमति दिए जाने के एक दिन बाद जैन ने शुक्रवार को कहा कि उनके खिलाफ लगाए गए आरोप ‘‘हास्यास्पद और समझ से परे’’ है। स्वास्थ्य, शहरी, विकास, पीडब्ल्यूडी समेत अन्य प्रभार संभालने वाले जैन ने आरोप लगाया कि भाजपा नीत सरकार शहर में अनधिकृत कॉलोनियों को गिराना चाहती है। राष्ट्रीय राजधानी में करीब 1700 अनधिकृत कॉलोनी है।

एक अधिकारी ने बृहस्पतिवार को बताया था कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने आय के ज्ञात स्रोत से अधिक संपत्ति के कथित मामले में जैन पर मुकदमा चलाने के लिए सीबीआई को अनुमति प्रदान की है। जैन, उनकी पत्नी पूनम, उनके कथित सहयोगियों-अजित प्रसाद जैन, वैभव जैन, सुनील कुमार जैन और अंकुश जैन के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, ‘‘मोदी जी दिल्ली में अनधिकृत कॉलोनियां ढहाना चाहते हैं और गरीबों को बेघर करना चहते हैं। दिल्ली के शहरी विकास मंत्री होने के नाते अनधिकृत कॉलोनियों को अधिकृत करने की मैंने शपथ ले रखी है।’’

यह भी पढ़ें: सत्येन्द्र जैन के खिलाफ चलेगा मुकदमा, केन्द्र ने दी मंजूरी

जैन ने एक आधिकारिक बयान में कहा, ‘‘निवासियों को सड़क और नालियों जैसी बुनियादी सुविधाएं प्रदान करना मेरा कर्तव्य है।’’ उन्होंने कहा ‘‘मेरे खिलाफ 100 मामले में भी दर्ज होंगे तब भी मैं नहीं झुकने वाला और मैं इसी तरह काम करता रहूंगा।’’जैन ने कहा कि अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने से उन्हें नहीं बल्कि उन कॉलोनी में रहने वाले लोगों को फायदा होगा। उन्होंने कहा, ‘‘केंद्र ने मेरे खिलाफ जो आरोप लगाए हैं मैं उससे हैरान हूं। वे कह रहे हैं कि इन कॉलोनियों को नियमित करने से जैन अमीर हो जाएगा। यह हास्यास्पद और समझ से परे है।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...