दस लाख के इनामी नक्सली महाराज प्रमाणिक का एके- 47 के साथ सरेंडर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 21, 2022   20:04
दस लाख के इनामी नक्सली महाराज प्रमाणिक का एके- 47 के साथ सरेंडर

दस लाख के इनामी नक्सली ने एके 47 के साथ आत्मसमर्पण किया है। पुलिस के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। पुलिस महानिरीक्षक (अभियान) अमोल विष्णुकांत होमकर समेत अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के समक्ष प्रामाणिक उर्फ राज उर्फ बबलू ने आत्मसमर्पण किया।

रांची। झारखंड की राजधानी रांची में आज 10 लाख रुपये के इनामी माओवादी और जोनल नक्सल कमांडर महाराज प्रामाणिक ने एके 47 राइफल, दो मैग्जीन, डेढ़ सौ कारतूस एवं दो वायरलेस सेट के साथ पुलिस के सामने शुक्रवार को आत्मसमर्पण कर दिया। पुलिस के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। पुलिस महानिरीक्षक (अभियान) अमोल विष्णुकांत होमकर समेत अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के समक्ष प्रामाणिक उर्फ राज उर्फ बबलू ने आत्मसमर्पण किया। वह अपने साथ एक एके 47 राइफल, दो मैग्जीन, 150 कारतूस और 2 वायरलेस सेट लेकर पहुंचा था।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में लूटपाट के आरोप में पांच गिरफ्तार, 16.8 लाख रुपये बरामद

पुलिस ने बताया कि सरायकेला खरसांवा का रहने वाला प्रामाणिक 119 विभिन्न आपराधिक वारदात में वांछित था और माओवादियों की दक्षिणी छोटानागपुर जोनल कमेटी का कमांडर था। आत्मसमर्पण के बाद प्रामाणिक ने कहा कि नक्सली बहला फुसला कर लोगों को दस्ते में शामिल करते हैं और ऐसे ही झूठे सब्जबाग के चलते ही वह भी नक्सलियों के दस्ते में शामिल हुआ था। प्रमाणिक ने कहा कि वर्तमान में नक्सली अपनी मूल धारणा को भूल चुके हैं। उसने यह भी बताया कि नक्सली दस्ते में शामिल महिलाओं का खुलेआम शोषण किया जाता है। आत्मसमर्पण के कार्यक्रम में होमकर ने बताया कि महाराज प्रमाणिक का आत्मसमर्पण पतिराम मांझी के दस्ते के लिए बड़ा झटका है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।