घर की छत पर लगे पाकिस्तान के झंडे का वीडियो वायरल होने के बाद मध्य प्रदेश में एक व्यक्ति गिरफ्तार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 31, 2020   15:13
घर की छत पर लगे पाकिस्तान के झंडे का वीडियो वायरल होने के बाद मध्य प्रदेश में एक व्यक्ति गिरफ्तार

मध्य प्रदेश में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। दावा किया जा रहा है कि मध्य प्रदेश के देवास में एक घर पर पाकिस्तान का झंडा लहराया गया है। रविवार शाम को भादंसं की धारा 153 ए (धर्म, भाषा, नस्ल वगैरह के आधार पर लोगों में नफरत फैलाने की कोशिश) के तहत गिरफ्तार किया गया है।

देवास। मध्य प्रदेश के देवास जिले के क्षिप्रा गांव में अपने घर पर पाकिस्तान का झंडा फहराने के आरोप में पुलिस ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। जिला पुलिस अधीक्षक किरण शर्मा ने सोमवार को बताया कि क्षिप्रा गांव के निवासी फारूख खान को रविवार शाम को भादंसं की धारा 153 ए (धर्म, भाषा, नस्ल वगैरह के आधार पर लोगों में नफरत फैलाने की कोशिश) के तहत गिरफ्तार किया गया है। एक अधिकारी ने बताया कि एक कथित वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद कार्रवाई की गई। इसमें पाकिस्तान के राष्ट्रीय ध्वज को एक घर की छत पर फहराते देखा गया था। उन्होंने बताया कि खान के निवास से इस झंडे को जब्त कर लिया गया है।

इसे भी पढ़ें: मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के 1317 नए मामले, 24 मरीजों की मौत

राजस्व निरीक्षक लाखन सिंह ने कहा कि जिले के क्षिप्रा गांव में एक घर पर पाकिस्तान का झंडा फहराए जाने के बारे में एक कथित वीडियो सोशल मीडिया में वायरल होने के बाद तहसीलदार ने उन्हें जांच करने के निर्देश दिये थे। सिंह ने जब घर के मालिक फारूख खान से संपर्क किया गया तो उसने बताया कि उसके 12 वर्षीय बेटे ने अज्ञानता के कारण पाकिस्तान के झंडे को घर के ऊपर फहरा दिया। हालांकि खान यह जवाब नहीं दे सके कि उसके बेटे को यह झंडा कहां से मिला। सिंह बताया कि खान को इसकी जानकारी मिलने के बाद उसने यह झंडा अपने घर की छत से हटा दिया।बाद में राजस्व निरीक्षक ने इस मामले में पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।