सिर्फ मोदी ही देश की सीमाओं की रक्षा कर सकते हैं: अमित शाह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 28, 2019   17:56
सिर्फ मोदी ही देश की सीमाओं की रक्षा कर सकते हैं: अमित शाह

शाह ने काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान के अंदर अवैध प्रवासियों को बसाने के लिए राज्य में तत्कालीन तरुण गोगोई के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार को भी दोषी ठहराया।

कलियाबोर (असम)। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बृहस्पतिवार को कहा कि कांग्रेस पार्टी और उसके अध्यक्ष राहुल गांधी नहीं बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही देश की सीमाओं की रक्षा कर सकते हैं। उन्होंने पाकिस्तान के बालाकोट में हवाई हमले में मारे गए लोगों की संख्या के संबंध में सबूत मांगने के लिए भी कांग्रेस की आलोचना की और दावा किया कि मोदी के तहत भारत अपने सैनिकों के खून का बदला लेने वाला अमेरिका और इजराइल के बाद दुनिया का तीसरा देश बन गया है।

भाजपा अध्यक्ष ने यहां एक चुनावी रैली में कहा, ‘‘क्या हमें अपने सैनिकों के खून का बदला नहीं लेना चाहिए? कांग्रेस देश की सीमा की रक्षा नहीं कर सकती। केवल भाजपा और नरेंद्र मोदी ही ऐसा कर सकते हैं।’’ उन्होंने कहा कि मोदी के नेतृत्व में भारत ने पाकिस्तान स्थित आतंकवादी तत्वों द्वारा उरी और पुलवामा हमलों के बाद सैनिकों के खून का बदला लिया। शाह भाजपा के सहयोगी दल अगप के मोनिमाधब महंत के लिए चुनाव प्रचार कर रहे थे जो कलियाबोर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह सरकार के 10 वर्षों में, हमारे सैनिकों के सिर काट दिए गए थे। लेकिन भारत की तरफ से कोई जवाब नहीं दिया गया। 

इसे भी पढ़ें: शाह का विपक्ष पर निशाना, कहा- दिन में होते हैं आमने-सामने, रात में करते हैं ilu-ilu

शाह ने काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान के अंदर अवैध प्रवासियों को बसाने के लिए राज्य में तत्कालीन तरुण गोगोई के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार को भी दोषी ठहराया। उन्होंने कहा कि सर्बानंद सोनोवाल और हिमंत बिस्व सरमा की भाजपा सरकार ने काजीरंगा के सभी प्रवासियों को बाहर निकालने का साहस दिखाया। उन्होंने मतदाताओं से कहा कि वे नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाएं और वह विश्वास दिलाते हैं कि असम के हर गैर कानूनी प्रवासी का पता लगाकर उन्हें वापस भेज देंगे। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।