नर्सिंग और पैरामेडिक्स में अवसर अपार, युवाओं के लिए खुले नौकरी के द्वार

Nursing
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
आबादी के लिहाज से देश का सबसे बड़ा राज्य होने के बावजूद प्रदेश में 2017 के पहले तक मात्र एक संस्थान 1972 में कानपुर में खुला था। इसके बाद 2013 में तीन जिलों आगरा, झांसी और मेरठ को स्वीकृति दी गई, लेकिन मेरठ के अलावा कोई संचालित नहीं हो पाया।

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश को नर्सिंग और पैरा मेडिक्स हब बनाने की बड़ी पहल की है। आजादी के बाद से लेकर 2017 तक नर्सिंग और पैरा मेडिक्स को नजरअंदाज किया गया, जिस कारण सरकारी मेडिकल कॉलेजों में योग्य नर्सिंग और पैरा मेडिक्स की कमी रही। इसे दूर करते हुए पहली बार 36 हजार से अधिक चिकित्सा शिक्षकों, सीनियर और जूनियर रेजिडेंट्स, नर्सिंग और पैरा मेडिकल संवर्ग आदि की नियुक्ति की गई है। इस क्षेत्र में अभी भी रोजगार और सरकारी नौकरी के अपार अवसर हैं।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री योगी ने टॉपर्स के साथ किया आत्मीय संवाद, बोले- मन में आत्मविश्वास हो तो कोई भी लक्ष्य कठिन नहीं 

आबादी के लिहाज से देश का सबसे बड़ा राज्य होने के बावजूद प्रदेश में 2017 के पहले तक मात्र एक संस्थान 1972 में कानपुर में खुला था। इसके बाद 2013 में तीन जिलों आगरा, झांसी और मेरठ को स्वीकृति दी गई, लेकिन मेरठ के अलावा कोई संचालित नहीं हो पाया। योगी सरकार ने बीएससी नर्सिंग की पढ़ाई के लिए सात जिलों प्रयागराज, गोरखपुर, कन्नौज, आगरा, जिम्स ग्रेटर नोएडा, राम मनोहर लोहिया संस्थान लखनऊ और झांसी में न सिर्फ नर्सिंग स्कूल स्वीकृत किए हैं, बल्कि इनमें प्रधानाचार्य और प्रोफेसरों सहित 138 पदों का सृजन कर नियुक्ति भी कर दी है।

इसे भी पढ़ें: अपने जन्मदिन पर अखिलेश यादव ने मेधावी छात्रों को लैपटॉप बांटा, भाजपा को चुनावी वादे की याद दिलाई 

अब उत्तर प्रदेश राज्य मेडिकल फेकेल्टी ने 2022-23 के सत्र के लिए 15 तक पंजीकरण और 24 को प्रवेश परीक्षा करेगी। चिकित्सा शिक्षा के प्रमुख सचिव आलोक कुमार कहते हैं कि प्रदेश में नर्सिंग और पैरा मेडिक्स में युवाओं के लिए अवसर ज्यादा हैं। इन क्षेत्रों में प्रदेश में लंबे अर्से बाद सीएम योगी के निर्देशानुसार सात नर्सिंग स्कूलों का संचालन शुरू किया गया है। इसके अलावा विभिन्न पदों का सृजन कर 36 हजार से अधिक युवाओं को मेडिकल कॉलेजों, संस्थानों, नर्सिंग स्कूलों और पैरामेडिक्स आदि में नियुक्ति दी गई है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़