अच्छे इरादे नहीं होने के कारण विपक्षी नेता जेल में हैं या जमानत पर: जेपी नड्डा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 20, 2019   19:51
अच्छे इरादे नहीं होने के कारण विपक्षी नेता जेल में हैं या जमानत पर: जेपी नड्डा

भाजपा नेता ने कहा कि घरेलू हिंसा, बच्चों का उत्पीड़न सहित सभी कानून अब जम्मू कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेशों में लागू होंगे। झारखंड पर अपना ध्यान केंद्रित करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘झारखंड में विकास जारी है।

चाईबासा (झारखंड)। भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शुक्रवार को कहा कि विपक्षी नेता या तो जेल में हैं या जमानत पर क्योंकि उनके इरादे ठीक नहीं हैं। उन्होंने कहा कि इसके विपरीत भाजपा के पास नेता, मंशा, कार्यक्रम और कार्यकर्ता हैं। उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा के पास नेता, मंशा, कार्यक्रम और कार्यकर्ता हैं जबकि विपक्षी नेता या तो जेल में हैं या जमानत पर क्योंकि उनके इरादे ठीक नहीं हैं।’’

नड्डा यहां कोल्हान प्रमंडल स्तरीय बूथ-कम-शक्ति केंद्र कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। केंद्रीय गृह मंत्री और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की ओर संकेत करते हुए नड्डा ने कहा, ‘‘सभी पार्टियां वंशवाद की चपेट में हैं और सिर्फ भाजपा ही ऐसी लोकतांत्रिक पार्टी है, जहां दीवारों पर पोस्टर चिपकाने वाला कार्यकर्ता भी पार्टी का अध्यक्ष बन सकता है।’’ उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि भाजपा के कई नेता और कार्यकर्ता अनुच्छेद 370 हटाए जाने की बात करते हुए इस दुनिया से चले गए लेकिन वे भाग्यशाली हैं कि उन्होंने अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35 ए हटाए जाने का देश में इतिहास बनते देखा।

इसे भी पढ़ें: गडकरी के गृह नगर में BJP की बाइक रैली में 52 लोगों के कटे चालान

भाजपा नेता ने कहा कि घरेलू हिंसा, बच्चों का उत्पीड़न सहित सभी कानून अब जम्मू कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेशों में लागू होंगे। झारखंड पर अपना ध्यान केंद्रित करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘झारखंड में विकास जारी है। पार्टी कार्यकर्ताओं को बूथ स्तर पर ध्यान केंद्रित करने की जरूरत है ताकि 65 से अधिक सीटें जीतने के लिए अपने लक्ष्य से आगे बढ़ा जा सके।’’ राज्य में इस साल के अंत तक विधानसभा चुनाव होने हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।