JNU के छात्रों की मूल मांग मान ली गई,अब कुलपति को हटाने की मांग उचित नहीं: पोखरियाल

original-demand-of-the-students-of-jnu-was-accepted-the-demand-for-removal-of-the-vice-chancellor-is-no-longer-appropriate-pokhriyal
रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने कहा कि जेएनयू के करीब 80 प्रतिशत छात्रों ने अगले सेमेस्टर के लिए पंजीकरण करा लिया है। किसी को भी उन्हें परेशान नहीं करना चाहिए, जो पढ़ना चाहते हैं। अगर हमारे विश्वविद्यालय को वैश्विक प्रतिस्पर्धा में उत्कृष्टता हासिल करनी है तो इन मुद्दों से ऊपर उठना होगा।

नयी दिल्ली। मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने कहा कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्रों की मूल मांग मान ली गई है और अब कुलपति एम. जगदीश कुमार को हटाने की मांग उचित नहीं है। पोखरियाल ने कहा कि विश्वविद्यालय में स्थिति अब सामान्य हो रही है।

इसे भी पढ़ें: जरूरत पड़ने पर बढ़ाई जा सकती है पंजीकरण की तारीख: जेएनयू वीसी

उन्होंने कहा, ‘‘जेएनयू के करीब 80 प्रतिशत छात्रों ने अगले सेमेस्टर के लिए पंजीकरण करा लिया है। किसी को भी उन्हें परेशान नहीं करना चाहिए, जो पढ़ना चाहते हैं। अगर हमारे विश्वविद्यालय को वैश्विक प्रतिस्पर्धा में उत्कृष्टता हासिल करनी है तो इन मुद्दों से ऊपर उठना होगा। ’’उन्होंने कहा, ‘‘ छात्रावास की फीस बढ़ोतरी को लेकर छात्रों की मूल मांग मान ली गई है।

इसे भी पढ़ें: JNU कुलपति ने छात्रों से कहा, बीती बातों को पीछे छोड़कर विश्वविद्यालय वापस लौटें

जेएनयू के कुलपति को हटाने की मांग अब उचित नहीं है, किसी को भी हटाना कोई समाधान नहीं है।’’पोखरियाल ने कहा कि संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) का उद्देश्य किसी की नागरिकता छीनना नहीं है। साथ ही उन्होंने छात्रों से ‘‘ उन लोगों को यह बात समझाने की अपील की, जो मामले पर जनता को गुमराह कर रहे हैं और तुच्छ राजनीति में लिप्त हैं।’’

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़