प्रदेश में आउटसोर्स बिजली कर्मचारियों ने किया काम बंद, ये है वजह

प्रदेश में आउटसोर्स बिजली कर्मचारियों ने किया काम बंद, ये है वजह

राजस्व वसूली, मीटर रीडिंग, बिल वितरण, उपभोक्ता कंप्लेंट, नए कनेक्शन, लाइनों का मेंटेनेंस जैसे कामों पर इसका असर पड़ेगा।

भोपाल। मध्य प्रदेश में संविलियन की मांग को लेकर आउटसोर्स बिजली कर्मचारी सोमवार से हड़ताल पर जा रहा है। बताया जा रहा है कि प्रदेश की पांचों बिजली कंपनियों में लगभग 42 हजार बिजली आउटसोर्स कर्मचारियों ने काम बंद कर दिया है।

इसे भी पढ़ें:मोदी सरकार के खिलाफ संयुक्त मोर्चा ने किया प्रदर्शन, पूर्व मुख्यमंत्री ने सरकार पर साधा निशाना 

आपको बता दें कि आउटसोर्स कर्मियों के हड़ताल पर जाने से प्रदेश में बिजली व्यवस्था पर असर पड़ सकता है। आउटसोर्सिंग कर्मचारी बिजली कंपनियों में संविलियन करने की मांग कर रहे हैं। 

जानकारी के मुताबिक 1 महीने पहले ऊर्जा मंत्री प्रद्यूम्न सिंह तोमर ने उनसे संविलियन का वादा किया था। जिसके बाद तय समय सीमा बीत जाने के बाद नाराज कर्मियों ने हड़ताल पर जाने का फैसला लिया है।

इसे भी पढ़ें:मध्यप्रदेश में नक्सलवाद पर नियंत्रण के लिए की जा रही सशस्त्र कार्रवाई एवं विकासात्मक कार्य : चौहान

वहीं आश्वासन पूरा नहीं होने पर आउटसोर्सिंग बिजली कर्मचारियों ने हड़ताल पर जाने का फैसला लिया है। बिजली कर्मियों के हड़ताल पर जाने से उपभोक्ताओं को भी समस्याओं का सामना करना पड़ेगा।

दरअसल राजस्व वसूली, मीटर रीडिंग, बिल वितरण, उपभोक्ता कंप्लेंट, नए कनेक्शन, लाइनों का मेंटेनेंस जैसे कामों पर इसका असर पड़ेगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...