भाषण देते हुए रो पड़े ओवैसी, बोले- जालिमो... तुम्हारे जुल्म से डरने वाले नहीं, हम सब्र करेंगे लेकिन मैदान नहीं छोड़ेंगे

भाषण देते हुए रो पड़े ओवैसी, बोले- जालिमो... तुम्हारे जुल्म से डरने वाले नहीं, हम सब्र करेंगे लेकिन मैदान नहीं छोड़ेंगे

एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने आगे कहा कि हम अल्लाह के रास्ते पर चलने वाले लोग हैं। हिम्मत रखने वाले हैं। उन्होंने कहा कि मुस्लिम समाज के पास सिर्फ ईमान वाले दौलत है और अल्लाह ही उनके लिए रास्ते खोलेगा।

असदुद्दीन ओवैसी लगातार खरगोन और जहांगीरपुरी में हिंसा के बाद चले बुलडोजर के खिलाफ मुखर होकर बोल रहे हैं। इन सब के बीच आज हैदराबाद में नमाज के वक्त लोगों को संबोधित करते हुए असदुद्दीन ओवैसी रो पड़े। असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि खरगोन में मुसलमानों के घर तोड़ दिए गए। जहांगीरपुरी में उनके साथ हिंसा हुई है। उन्होंने कहा कि मुसलमानों के घरों को तोड़ दिया गया है। लेकिन हम डरने वाले नहीं हैं। इतना कहते हुए असदुद्दीन ओवैसी रो पड़े। उन्होंने कहा कि जालिमो सुनो... मुझे मौत से डर नहीं लगता। हम तुम्हारे जुल्म से डरने वाले नहीं। हम तुम्हारे हुकूमत से डरने वाले नहीं। हम सब्र करेंगे लेकिन मैदान नहीं छोड़ेंगे।

एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने आगे कहा कि हम अल्लाह के रास्ते पर चलने वाले लोग हैं। हिम्मत रखने वाले हैं। उन्होंने कहा कि मुस्लिम समाज के पास सिर्फ ईमान वाले दौलत है और अल्लाह ही उनके लिए रास्ते खोलेगा। उन्होंने कहा कि लोग मुझे फोन कर अपने ऊपर हो रहे अत्याचारों के बारे में बता रहे हैं, उनके गांव और दुकानों को तोड़ा जा रहा है। किसी को उम्मीद नहीं खोनी चाहिए, चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है। हम धैर्य के साथ इसका सामना करेंगे, लेकिन कभी भी एक घर नहीं तोड़ेंगे।

आपको बता दें कि ओवैसी लगातार भाजपा की बुलडोजर नीति के खिलाफ बोल रहे हैं। ओवैसी का दावा है कि देश में एक समाज को निशाना बनाया जा रहा है। वह लगातार मुसलमानों की हक की बात करने को कहते हैं। ओवैसी ने करौली हिंसा को लेकर राजस्थान की सरकार पर निशाना साधा था। वही खरगोन में हुई हिंसा को लेकर वह भाजपा के खिलाफ लगातार हमलावर रहे। दिल्ली के जहांगीरपुरी में हुई कार्यवाही को असदुद्दीन ओवैसी ने एकतरफा बताते हुए कहा था कि सिर्फ एक धर्म के लोगों को निशाना बनाया जा रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।