पी चिदंबरम ने कहा- टीकों के लिए कई कीमत के निर्णय को अस्वीकार करें राज्य

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 23, 2021   15:13
पी चिदंबरम ने कहा- टीकों के लिए कई कीमत के निर्णय को अस्वीकार करें राज्य

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने शुक्रवार को कहा कि टीकों के लिए कई कीमत तय किए जाने के ‘भेदभावपूर्ण निर्णय’ को राज्यों को अस्वीकार करना चाहिए और उन्हें मिलकर टीका निर्माता कंपनियों से बातचीत करके नया मूल्य निर्धारित करना चाहिए।

नयी दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने शुक्रवार को कहा कि टीकों के लिए कई कीमत तय किए जाने के ‘भेदभावपूर्ण निर्णय’ को राज्यों को अस्वीकार करना चाहिए और उन्हें मिलकर टीका निर्माता कंपनियों से बातचीत करके नया मूल्य निर्धारित करना चाहिए। पूर्व गृह मंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘केंद्र सरकार द्वारा टीकों के लिए कई कीमतों की अनुमति देने का निर्णय भेदभावपूर्ण और प्रतिगामी है। राज्यों को सर्वसम्मति से निर्णय को अस्वीकार करना चाहिए।’’

इसे भी पढ़ें: डॉ राकेश वर्मा से जानें , कोविड की दूसरी लहर में दिल और दिमाग को कैसे रखें स्वस्थ

उन्होंने कहा, ‘‘सबसे अच्छा तरीका यह है कि राज्य सरकारें संयुक्त रूप से एक मूल्य वार्ता समिति का गठन करें और दोनों टीका निर्माताओं के साथ एक समान मूल्य पर वैक्सीन देने के लिए बातचीत करने की पेशकश करें।’’

इसे भी पढ़ें: CMs से बोले PM मोदी, अगर हम एक राष्ट्र के तौर पर काम करेंगे तो संसाधनों की कोई कमी नहीं होगी

चिदंबरम ने आरोप लगाया, ‘‘केंद्र सरकार ने अपनी जिम्मेदारी का निर्वाह करने से पल्ला झाड़ लिया है और कॉर्पोरेट मुनाफाखोरी के सामने समर्पण कर दिया है।’’ गौरतलब है कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने 18 से 45 साल आयु वर्ग के लोगों के टीकाकरण के लिए राज्यों को 400 रुपये और निजी अस्पतालों को 600 रुपये में टीका देने का फैसला किया है। इसके साथ ही केंद्र सरकार को पहले की तरह 150 रुपये में टीका उपलब्ध कराती रहेगी। कांग्रेस की मांग है कि पूरे देश में टीके की एक कीमत तय होनी चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।