पद्म पुरस्कारों की घोषणा, भोपाल के अब्दुल जब्बार को पद्मश्री सम्मान

पद्म पुरस्कारों की घोषणा,  भोपाल के अब्दुल जब्बार को पद्मश्री सम्मान

पिछले साल 14 नवम्बर 2019 को लम्बी बीमारी के बाद 63 साल की उम्र में उनका निधन हो गया था। भोपाल गैस कांड की 2300 विधवा पीड़ित महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सामाजिक कार्यकर्ता अब्दुल जब्बार को मरणोपरांत पद्मश्री से सम्मानित किया जाएगा।

भोपाल। भोपाल गैस पीड़ितों के लिए जिन्दगी भर संघर्ष करने वाले सामाजिक कार्यकर्ता अब्दुल जब्बार को भारत सरकार से पद्मश्री अवार्ड से सम्मानित करने जा रही है। भारत सरकार ने शनिवार को गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर पद्म पुरस्कारों की घोषण की गई। इस बार 7 हस्तीयों को पद्म विभूषण, 16 को पद्म भूषण और 118 को पद्मश्री से सम्मानित किया जाएगा। जिसमें भोपाल के गैस पीड़ितों के हक के लिए लड़ने वाले सामाजिक कार्यकर्ता अब्दुल जब्बार का नाम भी शामिल है। यह सम्मान उन्हें मर्णोपरांत दिया जा रहा है। पिछले साल 14 नवम्बर 2019 को लम्बी बीमारी के बाद 63 साल की उम्र में उनका निधन हो गया था। भोपाल गैस कांड की 2300 विधवा पीड़ित महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सामाजिक कार्यकर्ता अब्दुल जब्बार को मरणोपरांत पद्मश्री से सम्मानित किया जाएगा। अब्दुल जब्बार भोपाल गैस पीड़ित महिला उद्योग संगठन के संयोजक थे।

अब्दुल जब्बार के अलावा पंजाब के 84 वर्षिया जगदीश लाल आहुजा को हर दिन मुफ्त भोजन उपलब्ध करवाने लंगर लगाने के समाजसेवी कार्य के लिए यह सम्मान दिया जाएगा। जगदीश लाल आहूजा पिछले 15 सालों से 2 हजार लोगों को मुफ्त भोजन करवा रहे है। तो उत्तर प्रदेश के 80 साल के मोहम्मद शरीफ को अंतिम संस्कार के क्षेत्र में समाज सेवा के लिए यह सम्मान दिया जाएगा। वही जम्मू कश्मीर के 46 वर्षिया जावेद अहमद टाक को, कर्नाटक से 72 वर्षिया तुलसी गौड़ा को पर्यावरण के क्षेत्र में काम करने, अरूणाचल प्रदेश से 69 वर्षिया सत्यनारायण एम को शिक्षा के क्षेत्र में काम करने  और राजस्थान से 53 वर्षिया उषा चानूमार को स्वच्छता के क्षेत्र में, महाराष्ट्र से 60 वर्षिया पोपटराव पवार को जल संरक्षण, कर्नाटक से 64 वर्षिया हरेकला हजब्बा को शिक्षा के क्षेत्र में तथा पश्चिम बंगाल से अरूणोदय मोंडल को शिक्षा के क्षेत्र में विशेष योगदान के लिए पद्मश्री सम्मानित किया जाएगा।

तो वही पद्म विभूषण से सम्मानित होने वाले नामों में स्वर्गीय जार्ज फर्नांडिस (बिहार), स्वर्गीय अरूण जेटली (दिल्ली), स्वर्गीय सुषमा स्वराज (दिल्ली) सहित मॉरिशस के अनिरूद्ध जगन्नाथ को लोकसेवा के  लिए यह सम्मान दिया जाएगा। जबकि एमसी मैरीकाम (मणिपुर) को खेल, छन्नूलाल मिश्र (उत्तर प्रदेश) को कला और स्वामी विश्वेसतीर्थ (कर्नाटक) को मरणोपरांत आध्यात्म के क्षेत्र में काम करने के लिए पद्म विभूषण से सम्मानित किया जाएगा।

जबकि पद्म भूषण से मुमताज अली, सैयद मुआजेम अली (मरणोपरांत), मुजफ्फर हुसैन बेग, अजय चक्रवर्ती, मनोज दास, बालकृष्ण दोषी, कृष्णाम्मल जगन्नाथन, एससी जमिर, अनिल प्रकाश दोषी, सेरिंग नंडोल, आनंद महिंद्रा, नीलकंठ रामकृष्ण माधव मेनन (मरणोपरांत), मनोहर पर्रिकर, प्रो जगदीश सेठ, पीवी सिंधु, वेणु श्रीनिवासन को सम्मानित किया जाएगा। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।