महात्मा गांधी को लेकर पद्मश्री कंगना रनौत ने दिया विवादित बयान, कांग्रेस ने जताया विरोध

महात्मा गांधी को लेकर पद्मश्री कंगना रनौत ने दिया विवादित बयान, कांग्रेस ने जताया विरोध

कंगना रनौत ने कहा कि गांधी ने कभी भी भगत सिंह या सुभाष चंद्र बोस का समर्थन नहीं किया। सबूत है कि गांधी जी चाहते थे की भगत सिंह को फांसी हो। तो आपको यह चुनने की ज़रूरत है कि आप किसका समर्थन करते हैं।

भोपाल। भारत की बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत अपने बयानों की वजह से हमेशा सुर्खियों में रहती है। कंगना रनौत ने अब राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को लेकर विवादित टिप्पणी की है। जिसके खिलाफ कांग्रेस ने विरोध प्रदर्शन किया। भोपाल के 6 नंबर बस स्टॉप स्थित चौराहे पर कांग्रेस के पूर्व पार्षद गुड्डू चौहान के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पुतला दहन किया।

इसे भी पढ़ें:पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 24 नवंबर को आदिवासी नेताओं को बैठक के लिए बुलाया 

कंगना रनौत ने अपने इंस्टाग्राम स्टोरी पर एक आर्टिकल साझा किया था। इसकी हेडलाइन में लिखा है कि या तो आप गांधी के फैन हो सकते हैं या फिर नेताजी के समर्थक…आप दोनों के समर्थक नहीं हो सकते। इसका फैसला खुद करें। उन्होंने आगे लिखा, ”दूसरा गाल देने से भीख मिलती है, आजादी नहीं।

 वहीं इससे पहले कंगना ने कहा था कि स्वतंत्रता सेनानियों को उन लोगों ने अंग्रेजों के हवाले कर दिया जिनमें लड़ने की हिम्मत नहीं थी लेकिन वे सत्ता के भूखे थे। उन्होंने आगे कहा था कि ये वही हैं जिन्होंने हमें सिखाया है कि अगर कोई एक थप्पड़ मारे तो एक और थप्पड़ के लिए दूसरा गाल दे दो और इस तरह आपको आजादी मिलेगी। इस तरह से किसी को आज़ादी नहीं मिलती ऐसे भीख ही मिल सकती है। अपने नायकों को बुद्धिमानी से चुने।

इसे भी पढ़ें:MP में खाद के संकट ने लिया विकराल रूप, किसानों ने आपस मे की हाथापाई 

कंगना रनौत ने कहा कि गांधी ने कभी भी भगत सिंह या सुभाष चंद्र बोस का समर्थन नहीं किया। सबूत है कि गांधी जी चाहते थे की भगत सिंह को फांसी हो। तो आपको यह चुनने की ज़रूरत है कि आप किसका समर्थन करते हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।