कांप रहे थे पाकिस्तान के विदेश मंत्री, माथे पर था पसीना! जानिए अभिनंदन की रिहाई का पूरा सच

Abhinandan
अंकित सिंह । Oct 29, 2020 2:29PM
अयाज ने कहा कि हिंदुस्तान से कोई हमला नहीं होने वाला था लेकिन सरकार को केवल घुटने टेक कर अभिनंदन को वापस भेजना था और सरकार ने वही किया। अयाज ने यह भी दावा किया कि बैठक के दौरान महमूद कुरैशी के पैर कांप रहे थे और वह डरे हुए थे।

पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनातनी के दौरान मार्च 2019 में विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान पाकिस्तानी हवाई हमलों को नाकाम करने की कोशिश में पीओके में जा गिरे थे। जिसके बाद उनकी पाकिस्तान के कब्जे से रिहाई एक बड़ा मुद्दा बन गया था। हालांकि पाकिस्तान ने उन्हें 2 दिनों के भीतर ही रिहा कर दिया। लेकिन इन 2 दिनों में वह लगातार चर्चा का विषय बने रहे। आज भी यह सवाल बना हुआ है कि आखिर पाकिस्तान किस दबाव में विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा किया? इसको लेकर अंतरराष्ट्रीय नियमों की दलील जरूर दी जाती है। लेकिन बिना दांवपेच किए पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय नियमों को मान ले, यह भी किसी को पच नहीं सकता। अब इस मामले को लेकर पाकिस्तान के ही एक सांसद ने बड़ा खुलासा किया है।

इसे भी पढ़ें: अभिनंदन पर खुलासे के बाद नड्डा का राहुल पर हमला, कहा- भारत की किसी चीज पर भरोसा नहीं तो पाकिस्तान से खुद सुन लें

दरअसल, अभिनंदन की रिहाई को लेकर पीएमएल-एन सांसद अयाज सादिक ने संसद में खुलासा किया कि विदेश मंत्री एसएम कुरैशी ने पीपीपी, पीएमएल एन और सेना प्रमुख जनरल कमार जावेद बाजवा सहित संसदीय नेताओं के साथ एक बैठक में अभिनंदन को मुक्त करने के लिए कहा था। सादिक ने यह भी दावा किया कि उस वक्त विपक्ष ने अभिनंदन समेत तमाम मुद्दों पर सरकार का साथ देने का वादा किया था। अयाज ने यह भी कहा कि अभिनंदन की रिहाई को लेकर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान और विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी खौफ में थे। शाह महमूद कुरैशी ने तो यहां तक कह दिया था कि अगर अभिनंदन को नहीं छोड़ा जाता तो पाकिस्तान पर भारत 9:00 बजे तक हमला कर सकता है।

अयाज ने कहा कि हिंदुस्तान से कोई हमला नहीं होने वाला था लेकिन सरकार को केवल घुटने टेक कर अभिनंदन को वापस भेजना था और सरकार ने वही किया। अयाज ने यह भी दावा किया कि बैठक के दौरान महमूद कुरैशी के पैर कांप रहे थे और वह डरे हुए थे। जबकि हकीकत में कुछ ऐसा होने वाला नहीं था। इस खुलासे के बाद पाकिस्तान में नया सियासी बवाल खड़ा हो गया है। इमरान सरकार की संकट और भी बढ़ गई है। इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए तत्कालीन वायु सेना अध्यक्ष बीएस धनोवा ने कहा कि मैंने अभिनंदन के पिता से कहा था कि हम निश्चित रूप से उसे वापस लाएंगे। जिस तरीके से पाक सांसद ने कहा, इसमें कोई दो राय नहीं है। उस वक्त हमारी सेना आक्रामक मुद्रा में थी और पाकिस्तान हमारी क्षमता को जानता था।

इसे भी पढ़ें: इमरान खान ने मुस्लिम देशों के नेताओं को लिखा पत्र, इस्लामोफोबिया के खिलाफ की कार्रवाई की मांग

भारत में भी इस बात को लेकर अब राजनीति शुरू हो गई है। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कांग्रेस और विपक्ष पर जमकर निशाना साधा है। जेपी नड्डा ने ट्वीट वीडियो में लिखा के कांग्रेस के शहजादे को भारत के किसी भी चीज पर विश्वास नहीं है, चाहे वह सेना हो, सरकार हो या हमारे लोग हों तो वे अपने सबसे भरोसेमंद देश पाकिस्तान की ही सुन ले। उम्मीद है कि अब तो उनकी आंखें खुलेगी। उसके बाद एक और ट्वीट में भाजपा अध्यक्ष ने लिखा कि कांग्रेस अपने ही सशस्त्र बलों को कमजोर करने की मुहिम में लगे रही। कभी उनका मजाक उड़ाती तो कभी वीरता पर संदेह करती। हर प्रकार की चालबाजी की ताकि सेना को अत्याधुनिक राफेल ना मिल सके। लेकिन देशवासियों ने ऐसी राजनीति को नकार कर कांग्रेस को बड़ा सबक सिखाया।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़