वाघा बॉर्डर के जरिए 20 मछुआरों की वतन वापसी, 4 साल से कराची की लांडी जेल में थे कैद

वाघा बॉर्डर के जरिए 20 मछुआरों की वतन वापसी, 4 साल से कराची की लांडी जेल में थे कैद

पाकिस्तान ने 20 मछुआरों को रिहा किया, मछुआरों को वाघा बॉर्डर के जरिए भारत को सौंपा गया। प्रोटोकॉल अधिकारी अरुण पाल ने बताया कि 20 मछुआरे 2017 में मछली पकड़ने के लिए गुजरात के तटीय इलाके के भीतर होते हुए अपनी कश्ती समुद्र में लेकर गए थे। नेविगेशन नहीं होने की वजह से वो पाक सीमा में चले गए थे।

नयी दिल्ली। पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की जेल में कैद 20 मछुआरों की वतन वापसी हो चुकी है। आपको बता दें कि पाकिस्तान ने सोमवार को 20 मछुआरों को वाघा बॉर्डर के जरिए भारत को सौंप दिया है। इन 20 मछुआरों में से 3 की उम्र 20 साल से कम बताई जा रही है। साल 2017 में यह सभी लोग मछली पकड़ते रास्ता भटक गए और पाकिस्तान के इलाके में जा पहुंचे थे। जहां पर इन्हें गिरफ्तार कर लिया और कराची की लांडी जेल में कैद कर दिया गया था। 4 साल की कैद के बाद आज इन लोगों की रिहाई हुई है। 

इसे भी पढ़ें: श्रीलंकाई नौसेना ने तमिलनाडु के 43 मछुआरों को गिरफ्तार किया, छह नौकाएं जब्त कीं 

मछुआरे भटक गए थे रास्ता

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पाकिस्तान ने 20 मछुआरों को रिहा किया, मछुआरों को वाघा बॉर्डर के जरिए भारत को सौंपा गया। प्रोटोकॉल अधिकारी अरुण पाल ने बताया कि 20 मछुआरे 2017 में मछली पकड़ने के लिए गुजरात के तटीय इलाके के भीतर होते हुए अपनी कश्ती समुद्र में लेकर गए थे। उन्होंने कहा कि नेविगेशन नहीं होने की वजह से वो पाकिस्तान की सीमा में चले गए थे। कराची की लांडी जेल में 4 साल की सजा के बाद उन्हें छोड़ा गया है।

इसे भी पढ़ें: श्रीलंकाई नौसेना ने हमें भगाने के लिए पत्थर, बोतलें फेंकी: मछुआरे

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, पाकिस्तान की जेलों में अभी भी 588 मछुआरे कैद हैं। जिनमें से अधिकतर तो कराची की लांडी जेल में ही हैं। हालांकि, 20 मछुआरों की सजा पूरी हो जाने के बाद इन्हें रविवार को पाकिस्तान ने रिहा कर दिया था। जिसके बाद सोमवार को उनकी वतन वापसी हुई है। 20 मछुआरों में से 3 की उम्र 20 साल से कम बताई जा रही है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।