दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकवादी गिरफ्तार, कोर्ट ने 14 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकवादी गिरफ्तार, कोर्ट ने 14 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा

पुलिस उपायुक्त (विशेष प्रकोष्ठ) प्रमोद सिंह कुशवाहा के मुताबिक मोहम्मद अशरफ उर्फ अली बांग्लादेश के रास्ते भारत आया था और वह फर्जी दस्तावेजों के जरिये भारतीय पहचान पत्र हासिल करके 10 साल से भारत में रह रहा था।

दिल्ली पुलिस ने लक्ष्मी नगर इलाके से आईएसआई के साथ कथित संबंध रखने वाले तथा राजधानी में आतंकवादी हमला करने की साजिश रच रहे 40 वर्षीय एक पाकिस्तानी नागरिक को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने गिरफ्तार आतंकवादी के पास से भारी मात्रा में हथियार तथा गोला बारूद बरामद किया है। बाद में इसे पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने आतंकी को 14 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है। पुलिस ने इसका नाम मोहम्मद अशरफ उर्फ अली बताया है जो पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का रहने वाला है।

पुलिस उपायुक्त (विशेष प्रकोष्ठ) प्रमोद सिंह कुशवाहा के मुताबिक मोहम्मद अशरफ उर्फ अली बांग्लादेश के रास्ते भारत आया था और वह फर्जी दस्तावेजों के जरिये भारतीय पहचान पत्र हासिल करके 10 साल से भारत में रह रहा था। पुलिस उपायुक्त ने बताया कि उसे सोमवार रात को गिरफ्तार किया गया। वह अपने को मौलाना के रूप पेश कर रहा था। कुशवाहा के अनुसार स्कूली पढ़ाई पूरी करने के बाद अशरफ को पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ने सीधी भर्ती की थी और उसे छह महीने तक प्रशिक्षण दिया था। अधिकारियों ने बताया कि अशरफ आईएसआई के अपने आका नसीर के संपर्क में था जिसे वह नियोजित आतंकवादी हमले की सूचना देता था। अधिकारियों के अनुसार अशरफ ने दस सालों में पांच-छह ठिकाने बदले। वह किसी एक जगह लंबे समय तक नहीं रहता था और उसने दस्तावेज हासिल करने के लिए यहां एक महिला से शादी भी की। 

इसे भी पढ़ें: निजी हाथों में गया एयर इंडिया फिर भी महाराजा ट्रीटमेंट रहेगा जारी, Bye Bye कहने को तैयार नहीं सरकार

पुलिस के अनुसार उसकी निशानदेही पर एके-47 रायफल, अन्य हथियार और गोला बारूद बरामद किया गया है। पुलिस के अनुसार, अशरफ को गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम, विस्फोटक अधिनियम और शस्त्र अधिनियम के प्रावधानों के तहत गिरफ्तार किया गया है। पुलिस को संदेह है कि वह आतंकी मोड्यूल (गिरोह) का हिस्सा है। इस बात की जांच की जा रही है कि कहीं उसका इरादा अकेले हमला करने की तो नहीं थी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...