कांग्रेस विधायकों को भाजपा में शामिल करने से पर्रिकर की परंपरा खत्म हो गई

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jul 13 2019 5:42PM
कांग्रेस विधायकों को भाजपा में शामिल करने से पर्रिकर की परंपरा खत्म हो गई
Image Source: Google

मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने चार मंत्रियों को अपनी कैबिनेट से हटा दिया, जिनमें सरदेसाई सहित गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) के तीन मंत्री और एक निर्दलीय शामिल हैं।

पणजी। गोवा के निवर्तमान उप मुख्यमंत्री विजय सरदेसाई ने शनिवार को कहा कि कांग्रेस के 10 विधायकों को भाजपा में शामिल करना दिवंगत मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर द्वारा स्थापित परंपरा को खत्म करना है। दरअसल, इस तटीय राज्य के सबसे कद्दावर भगवा नेता रहे पर्रिकर को क्षेत्रीय दलों को एकजुट कर 2017 में सरकार बनाने का श्रेय जाता है। गोवा में कांग्रेस को बुधवार को उस वक्त जोरदार झटका लगा, जब उसके 15 में से 10 विधायकों ने अपना पाला बदल लिया और भाजपा में शामिल हो गए। इस घटनाक्रम से 40 सदस्यीय राज्य विधानसभा में भाजपा विधायकों की संख्या 27 हो गई है। 

इसे भी पढ़ें: बैंकों को मजबूत करने के लिए विलय का ही रास्ता क्यों अपना रही है सरकार?

इसके बाद, मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने चार मंत्रियों को अपनी कैबिनेट से हटा दिया, जिनमें सरदेसाई सहित गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) के तीन मंत्री और एक निर्दलीय शामिल हैं। सरदेसाई ने मिरामार में पर्रिकर के स्मारक के पास लोगों से कहा, ‘‘पर्रिकर की दो बार मौत हुई...उनका देहावसान 17 मार्च को हुआ, जबकि आज उनकी राजनीतिक परंपरा खत्म हो गई।’’ उन्होंने यह घोषणा भी कि गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) भाजपा नीत सरकार से अपना समर्थन वापस ले रही है। 
सरदेसाई ने कहा, ‘‘हमने प्रमोद सांवत सरकार का समर्थन किया था क्योंकि मैंने पर्रिकर से वादा किया था कि किसी भी परिस्थिति में सरकार को समर्थन जारी रहेगा। हम अब राजग द्वारा ठगे गए महसूस कर रहे हैं।’’ सरदेसाई ने दोहराया कि भाजपा के किसी केंद्रीय नेता ने उनसे बात नहीं की है। उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने अपनी साख खो दी है। राजग ने अपने सहयोगियों को छोड़ दिया।’’

 


रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story