सरकारी अस्पताल की लापरवाही, फर्श पर लेटे दिखे मरीज तो वहीं बिस्तर पर लेटा मिला कुत्ता, वीडियो हुआ वायरल

सरकारी अस्पताल की लापरवाही, फर्श पर लेटे दिखे मरीज तो वहीं बिस्तर पर लेटा मिला कुत्ता, वीडियो हुआ वायरल

जयारोग्य अस्पताल समूह के कमलाराजा अस्पताल का वीडियो है। इस वीडियो में आवारा कुत्ता मरीज के बेड पर आराम फरमाता हुआ दिखाई दे रहा है। कमला राजा हॉस्पिटल ग्वालियर चंबल अंचल का महिलाओं का सबसे बड़ा अस्पताल है और इस अस्पताल में महिलाओं के साथ-साथ नवजात बच्चे अधिक संख्या में भर्ती होते हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की आशंका तेज हो गई है। और यही वजह है कि जिला प्रशासन से लेकर स्वास्थ्य विभाग अस्पतालों में स्वास्थ्य व्यवस्थाएं उपलब्ध कराने के लिए लगे हुए हैं।

ऐसे में प्रदेश के ग्वालियर जिले में स्वास्थ्य विभाग अभी भी लापरवाह बना हुआ है। ग्वालियर चंबल अंचल के सबसे बड़े जयारोग्य अस्पताल समूह में बने कमलाराजा अस्पताल का एक वीडियो वायरल हो रहा है।

इसे भी पढ़ें:आपस मे भीड़े छात्र संगठन के कार्यकर्ता, वीडियो हुआ वायरल 

इस वीडियो में कड़ाके की ठंड में मरीज बाहर बाहर बैठे हैं तो वहीं वार्ड में अंदर कुत्ता मरीजों के बेड पर आराम फरमा रहा है। वीडियो में देखा जा रहा है कि मरीज गैलरी में ठंड से ठिठुर रहे हैं और आवारा कुत्ता मरीज के बेड पर आराम फरमा रहा है।

दरअसल जयारोग्य अस्पताल समूह के कमलाराजा अस्पताल का वीडियो है। इस वीडियो में आवारा कुत्ता मरीज के बेड पर आराम फरमाता हुआ दिखाई दे रहा है। कमला राजा हॉस्पिटल ग्वालियर चंबल अंचल का महिलाओं का सबसे बड़ा अस्पताल है और इस अस्पताल में महिलाओं के साथ-साथ नवजात बच्चे अधिक संख्या में भर्ती होते हैं।

इसे भी पढ़ें:एमपी, महाराष्ट्र से जुड़े ओबीसी आरक्षण मुद्दे पर 17 जनवरी को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट 

इसके साथ ही अस्पताल के सभी जूतों पर सुरक्षा गार्ड तैनात है। लेकिन इसके बावजूद सबसे बड़ी लापरवाही यह सामने आ रही है कि आवारा कुत्ता अंदर वार्ड तक कैसे पहुंचा। ऐसे में जब जयारोग्य समूह के अधीक्षक डॉ आरकेएस धाकड़ का कहना है कि यह मामला जानकारी में नहीं है। इसकी जानकारी लेकर ही में कुछ बता पाऊंगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।