वंदे मातरम या जय हिन्द करना ही देशभक्ति नहीं: नायडू

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 22 2019 10:35AM
वंदे मातरम या जय हिन्द करना ही देशभक्ति नहीं: नायडू
Image Source: Google

नायडू ने कहा, ‘‘अगर कुछ गलत है तो आंतरिक तंत्र होना चाहिए और इस पर बाहर से कमजोर करने का प्रयास करने के बजाय इन पर उचित मंचों पर चर्चा होनी चाहिए।’’

चेन्नई। उप-राष्ट्रपति वेकैंया नायडू ने मंगलवार को संवैधानिक संस्थाओं को कमजोर करने के प्रयास के खिलाफ चेताया और कहा कि मुद्दों को आंतरिक तंत्र के जरिये सुलझाया जाना चाहिए। एक दीक्षांत समारोह में यहां प्रबंधन विषय में स्नातक की पढाई पूरी करने वाले छात्रों को संबोधित करते हुए उप-राष्ट्रपति ने जोर दिया कि केवल ‘वंदे मातरम’ या ‘जय हिन्द’ करना देशभक्ति नहीं है। उन्होंने कहा कि इसका मतलब यह भी है कि आप एक दूसरे का सहयोग करें।

इसे भी पढ़ें: सूर्य नमस्कार नहीं कर सकते तो चंद्र नमस्कार करें, लेकिन योग जरूर करें: नायडू

उन्होंने कहा, ‘‘’संस्था कोई भी हो सकती है- विश्वविद्यालय, न्यायपालिका, सीवीसी, कैग, चुनाव आयोग, संसद और राज्य विधायिकाएं। हमें अपनी संस्थाओं को कमजोर करने का प्रयास नहीं करना चाहिए।’’ नायडू ने कहा, ‘‘अगर कुछ गलत है तो आंतरिक तंत्र होना चाहिए और इस पर बाहर से कमजोर करने का प्रयास करने के बजाय इन पर उचित मंचों पर चर्चा होनी चाहिए।’’

 


रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story