पवन वर्मा ने तृणमूल कांग्रेस से इस्तीफा दिया, पार्टी ने कहा कि कोई असर नहीं पड़ेगा

Pavan Varma
प्रतिरूप फोटो
ANI
वर्मा को दिसंबर 2021 में टीएमसी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और प्रवक्ता नियुक्त किया गया था। हालांकि, इस साल फरवरी में पदाधिकारियों की नई समिति के गठन के बाद, उन्हें पार्टी में कोई औपचारिक पद नहीं दिया गया था। इस बाबत वर्मा से बात करने के लिए कई बार फोन किया गया, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला।

कोलकाता, 13 अगस्त।  राज्यसभा के पूर्व सदस्य पवन के वर्मा ने ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में शामिल होने के लगभग नौ महीने बाद शुक्रवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया। जनता दल (यूनाइटेड) के पूर्व सांसद वर्मा पिछले साल नवंबर में टीएमसी में शामिल हुए थे। वर्मा ने ट्वीट किया, ‘‘आदरणीय ममता जी कृपया पार्टी से मेरा इस्तीफा स्वीकार करें। मुझे दिए गए स्नेह के लिए मैं आपको धन्यवाद देना चाहता हूं। मैं आपके साथ हमेशा संपर्क में बने रहने की आशा करता हूं। आपको शुभकामनाएं।’’

वर्मा को दिसंबर 2021 में टीएमसी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और प्रवक्ता नियुक्त किया गया था। हालांकि, इस साल फरवरी में पदाधिकारियों की नई समिति के गठन के बाद, उन्हें पार्टी में कोई औपचारिक पद नहीं दिया गया था। इस बाबत वर्मा से बात करने के लिए कई बार फोन किया गया, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। हालांकि तृणमूल कांग्रेस ने वर्मा के पार्टी छोड़ने को ज्यादा तवज्जो नहीं देते हुए कहा कि इससे कोई असर नहीं पड़ेगा।

वरिष्ठ पार्टी सांसद सौगत रॉय ने कहा, ‘‘वह राजनयिक थे जो जदयू में शामिल हुए और राज्यसभा पहुंचे। उन्हें राज्यसभा में दूसरा कार्यकाल नहीं मिला तो पार्टी छोड़कर टीएमसी में आ गये। हो सकता है कि उन्हें तृणमूल कांग्रेस से राज्यसभा सदस्यता की चाह हो। ऐसा नहीं हुआ तो अब उन्होंने पार्टी छोड़ने का फैसला कर लिया।’’ रॉय ने किसी का नाम लिये बिना कहा, ‘‘जमीन से उठकर आये लोग पार्टी के लिए प्रतिबद्ध होते हैं, ना कि अन्य क्षेत्रों से आये लोग।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़