शहरी इलाकों में सड़कों पर बनाएंगे फुटपाथ और साइकिल ट्रैक: गडकरी

Gadkari
लोकसभा में मनीष तिवारी, भोला सिंह और कुछ अन्य सदस्यों के पूरक प्रश्नों के उत्तर में गडकरी ने यह भी बताया कि दिल्ली-मंबई राजमार्ग को ‘ई-राजमार्ग’ बनाया जाएगा जिससे इस राजमार्ग पर परिवहन सेवाएं सस्ती पड़ेंगी और साजो-सामान के परिवहन संबंधी सेवाओं पर लागत 70 फीसदी कम हो जाएगी।
नयी दिल्ली। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने बृहस्पतिवार को कहा कि शहरी इलाकों से गुजरने वाली सड़कों पर फुटपाथ और साइकिल ट्रैक बनाए जाएंगे। लोकसभा में मनीष तिवारी, भोला सिंह और कुछ अन्य सदस्यों के पूरक प्रश्नों के उत्तर में गडकरी ने यह भी बताया कि दिल्ली-मंबई राजमार्ग को ‘ई-राजमार्ग’ बनाया जाएगा जिससे इस राजमार्ग पर परिवहन सेवाएं सस्ती पड़ेंगी और साजो-सामान के परिवहन संबंधी सेवाओं पर लागत 70 फीसदी कम हो जाएगी। 

इसे भी पढ़ें: संसद में आज: किशोर न्याय संशोधन विधेयक लोकसभा से पास, GNCTD बिल पर राज्यसभा में विपक्ष का हंगामा

उन्होंने कहा कि आने वाले समय में शहरों से निकलने वाले मार्गों पर फुटपाथ और साइकिल ट्रैक बनाए जाएंगे। गडकरी ने सांसदों का आह्वान किया कि वे ई-साइकिल (इलेक्ट्रिक) को लोकप्रिय बनाएं। उन्होंने कहा, ‘‘ देश में आबादी और वाहनों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है। यह एक समस्या है.... हमें नयी-नयी प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करना होगा। यह सस्ता भी पड़ेगा और उपभोक्ता के हित में भी होगा।’’ 

इसे भी पढ़ें: संसद ने राष्ट्रीय अवसंरचना और विकास वित्त-पोषण बैंक विधेयक को मंजूरी प्रदान कर दी

मंत्री ने ड्राइविंग लाइसेंस और परिवहन संबंधी कई अन्य कागजात के ऑनलाइन बनाए जाने का उल्लेख करते हुए कहा, ‘‘आरटीओ मुझसे नाराज हैं...अब आरटीओ कार्यालय में जाने की जरूरत नहीं है।’’ टोल पर लगने वाले जाम का हवाला देते हुए गडकरी ने कहा, ‘‘फास्टट्रैक प्रणाली लागू होने के बाद कई टोल पर जाम कम हो गया है। हमने सुनिश्चित किया है कि टोल पर तीन मिनट से ज्यादा नहीं रुकना पड़े। कोविड और किसान आंदोलन के बावजूद टोल के जरिए होने वाली आमदनी बढ़ गई है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़