J&K में प्रदर्शन कर रहे PDP समर्थकों को हिरासत में लिया गया, महबूबा को छोड़ने की मांग वाले लगाए थे नारे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 27, 2020   17:40
J&K में प्रदर्शन कर रहे PDP समर्थकों को हिरासत में लिया गया, महबूबा को छोड़ने की मांग वाले लगाए थे नारे

अधिकारियों ने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने सिटी सेंटर की ओर बढ़ने का प्रयास किया लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया। उन्होंने कहा कि कुछ प्रदर्शनकरियों को हिरासत में ले लिया गया।

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर में पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के कई नेताओं और समर्थकों ने कश्मीरी नेताओं को हिरासत में रखे जाने के विरोध में यहां प्रदर्शन करने का प्रयास किया जिसके बाद उन्हें हिरासत में ले लिया गया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यहां शेर ए कश्मीर पार्क के पास पीडीपी नेता और समर्थक एकत्रित हुए और उन्होंने जुलूस निकालने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने जेल में बंद कश्मीरियों और महबूबा मुफ्ती समेत राजनीतिक बंदियों को छोड़ने की मांग करते हुए नारे लगाए। अधिकारियों ने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने सिटी सेंटर की ओर बढ़ने का प्रयास किया लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया। उन्होंने कहा कि कुछ प्रदर्शनकरियों को हिरासत में ले लिया गया। 

इसे भी पढ़ें: महबूबा मुफ्ती की बेटी पासपोर्ट में बदलना चाहती है मां का नाम, जारी किया नोटिस 

पार्टी ने कहा कि राजनीतिक बंदियों, “युवाओं के उत्पीड़न”, मीडिया का “गला घोंटने” और “मानवाधिकारों के उल्लंघन” के विरोध में निकाले गए शांतिपूर्ण जुलूस को पुलिस ने रोक दिया। पीडीपी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिखा, “राजनीतिक बंदियों, “युवाओं के उत्पीड़न”, मीडिया का “गला घोंटने” और “मानवाधिकारों के उल्लंघन” के विरोध में पीडीपी नेताओं द्वारा निकाले गए शांतिपूर्ण जुलूस को पुलिस ने रोक दिया। पुलिस ने अब पीडीपी नेताओं रऊफ भट, हामिद कौशीन,शांति सिंह, आरिफ लैगरू और मोहम्मद अमीन को हिरासत में ले लिया है।” इस बीच मुफ्ती की बेटी इल्तिजा मुफ्ती ने पुलिस की कार्रवाई की आलोचना करते हुए अपनी मां के ट्विटर हैंडल पर लिखा कि संस्थागत दमन से लादे गए सामान्य हालात बेपर्दा हुए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।