पीडीपी ने पांच अगस्त को पूर्ववर्ती राज्य के इतिहास का काला दिन बताया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 29, 2020   08:04
पीडीपी ने पांच अगस्त को पूर्ववर्ती राज्य के इतिहास का काला दिन बताया

पीडीपी ने अपने वरिष्ठ नेताओं के हवाले से जारी किए एक बयान में कहा कि जम्मू- कश्मीर के संवैधानिक इतिहास में पांच अगस्त एक काला दिन है, जब संसद और भारत के संविधान द्वारा किए गए वादों को बहुसंख्यक के लक्ष्य की खातिर तोड़ दिया गया।

श्रीनगर। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) ने मंगलवार को कहा कि वह जम्मू-कश्मीर के लोगों के सम्मान और गरिमा को बहाल कराने के लिए प्रतिबद्ध है। साथ ही, पांच अगस्त को पूर्ववर्ती राज्य के इतिहास का काला दिन बताया। पार्टी ने अपने वरिष्ठ नेताओं के हवाले से जारी किए एक बयान में कहा कि जम्मू- कश्मीर के संवैधानिक इतिहास में पांच अगस्त एक काला दिन है, जब संसद और भारत के संविधान द्वारा किए गए वादों को बहुसंख्यक के लक्ष्य की खातिर तोड़ दिया गया। 

इसे भी पढ़ें: पाक सेना ने नियंत्रण रेखा के पास फिर की गोलेबारी, भारतीय सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब

बहरहाल, पीडीपी के 21 वें स्थापना दिवस पर जारी प्रेस विज्ञप्ति में किसी भी नेता का नाम नहीं था। पार्टी प्रमुख महबूबा मुफ्ती नजरबंद हैं और उनकी नजरबंदी के एक साल पूरे होने में एक हफ्ता बाकी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।