लोग पहले ही गोवा को कसीनो राजधानी का तमगा दे चुके हैं: केंद्रीय मंत्री

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 4, 2021   18:09
लोग पहले ही गोवा को कसीनो राजधानी का तमगा दे चुके हैं: केंद्रीय मंत्री

केंद्रीय पर्यटन मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि, लोग पहले ही गोवा को कसीनो राजधानी का तमगा दे चुके हैं।उन्होंने कहा कि महामारी ने राज्य में पर्यटन क्षेत्र को प्रभावित किया है, जो अब फिर से सुधर रहा है क्योंकि घरेलू यात्रियों ने देश भर में जाना शुरू कर दिया है।

पणजी। केंद्रीय पर्यटन मंत्री जी किशन रेड्डी ने शनिवार को कहा कि गोवा को लोग पहले ही कसीनो राजधानी का तमगा दे चुके हैं। उन्होंने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, लोग पहले ही गोवा को कसीनो राजधानी का तमगा दे चुके हैं। हमें (सरकार)यह देने की जरूरत नहीं है। जनता पहले ही इसकी घोषणा कर चुकी है। रेड्डी यहां तटीय राज्य के लिए विभिन्न पर्यटन प्रोत्साहन पहलों की घोषणा करने आए थे। केंद्रीय मंत्री श्रीपद नाइक भी इस अवसर पर मौजूद थे। यह पूछे जाने पर कि क्या सरकार द्वारा गोवा को भारत की कसीनो राजधानी के रूप में घोषित किया जाएगा, उन्होंने कहा, जनता यहां (कसीनो के लिए) है। वे या तो यहां हैं या सिक्किम में (दोनों जगह जहां कसीनो की अनुमति है)। मंत्री ने कहा, अगर गोवा को कसीनो राजधानी के रूप में घोषित करके लाभ मिलता है, तो हम निश्चित रूप से ऐसा कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि महामारी ने राज्य में पर्यटन क्षेत्र को प्रभावित किया है, जो अब फिर से सुधर रहा है क्योंकि घरेलू यात्रियों ने देश भर में जाना शुरू कर दिया है। मंत्री ने कहा, घरेलू पर्यटन का मौसम जोर पकड़ रहा है, लेकिन अब तीसरी लहर को लेकर आशंकाएं हैं। मैं लोगों से देश के विभिन्न पर्यटन स्थलों का दौरा करते समय सभी आवश्यक प्रोटोकॉल का पालन करने की अपील करता हूं। गोवा के बारे में उन्होंने कहा, ‘‘आने वाले दिनों में क्रूज पर्यटन एक बड़ा क्षेत्र बन जाएगा जिसे सागरमाला परियोजना के तहत मिशन मोड पर ले जाया जाएगा।’’ रेड्डी ने कहा कि केंद्रीय पर्यटन और जहाजरानी मंत्रालय गोवा में पर्यटन के विकास पर कार्ययोजना तैयार करने के लिए अगले सप्ताह बैठक करेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।