दिल्ली वाले ‘जिन्ना वाली आजादी’ चाहते हैं या ‘भारत माता की जय’: जावड़ेकर

दिल्ली वाले ‘जिन्ना वाली आजादी’ चाहते हैं या ‘भारत माता की जय’: जावड़ेकर

जावड़ेकर ने कहा कि जिसने दिल्ली में दंगा भड़काया लोगों की संपत्ति जलाई उसे आम आदमी पार्टी टिकट देती है। लोगों में गलतफहमी पैदा करके और भ्रमित करके ये आंदोलन चलाया जा रहा है।

नयी दिल्ली। शाहीन बाग में चल रहे सीएए विरोधी प्रदर्शन का हवाला देते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडे़कर ने शुक्रवार को कहा कि दिल्ली के लोगों को यह तय करने की जरूरत है कि वे ‘जिन्ना वाली आजादी’ चाहते हैं या ‘भारत माता की जय’। जावडे़कर ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पर अल्पसंख्यकों के दिमाग में ‘जहर घोलने’ का भी आरोप लगाया। जावडे़कर ने कहा कि जिसने दिल्ली में दंगा भड़काया लोगों की संपत्ति जलाई उसे आम आदमी पार्टी टिकट देती है। लोगों में गलतफहमी पैदा करके और भ्रमित करके ये आंदोलन चलाया जा रहा है। सीएम और डिप्टी सीएम ने जो बोला है उससे साफ हो गया कि शाहीन बाग आंदोलन आम आदमी पार्टी और कांग्रेस की मिलीभगत है। 

जावडे़कर ने कहा कि भारत तेरे टुकड़े होंगे के नारे लगाने वालों के साथ आम आदमी पार्टी और कांग्रेस खड़े हैं। इससे जनता को तकलीफ पहुंच रही है। धार्मिक प्रताड़ना के शिकार शरणार्थियों के प्रति आम आदमी पार्टी को थोड़ी भी सहानुभूति नहीं है। केजरीवाल टीवी डिबेट में कहते हैं कि बाहर से आए शरणार्थियों की वजह से देश में बवाल कराया जा रहा है, शरणार्थियों के प्रति इनके मन में जरा भी सहानुभूति नहीं है। केजरीवाल ने टाउन हॉल में कहा कि CAA की वजह से करोड़ों लोगों की नागरिकता जाएगी। मुझे कल ताज्‍जुब हुआ कि इमरान खान ने भी यही बयान दिया है। दोनों के बयान अक्सर एक समान होते हैं। दिल्ली इस बार ये सवाल पूछ रही है। 

इसे भी पढ़ें: जिन्ना वाली आजादी के नारे लगाना गद्दारी है: छात्रों के प्रदर्शनों पर बोले रामदेव

जावडे़कर ने साफ कहा कि ये NRC को CAA से जोड़ कर कहते हैं। लेकिन, NRC तो सिर्फ असम में लागू है और NRC तो कांग्रेस लाई थी हम तो लाए भी नहीं है। पाकिस्तान, बांग्लादेश में इन लोगों पर बहुत ही अत्याचार हुआ और ये लोग वहां से भाग कर आए। इनके लिए देश में नागरिकता कानून लाया गया। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।