शुरू होने जा रही डाकमत की व्यवस्था, जानिए किन-किन लोगों को मिलेगा इसका लाभ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 5, 2019   10:40
  • Like
शुरू होने जा रही डाकमत की व्यवस्था, जानिए किन-किन लोगों को मिलेगा इसका लाभ

झारखंड के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी विनय कुमार चौबे ने सोमवार को यहां कहा कि इन प्रावधानों से मतदाताओं को अवगत कराया जाना है और राजनीतिक दल इसमें अहम भूमिका निभा सकते हैं।

रांची। भारत निर्वाचन आयोग ने कंडक्ट आफ इलेक्शन रुल्स में कई नए प्रावधान जोड़े हैं जो झारखंड विधानसभा से पहली बार लागू हो रहे हैं और इन्हीं के तहत आयोग दिव्यांग एवं अस्सी वर्ष से अधिक उम्र के मतदाताओं को डाकमत की सुविधा प्रदान करेगा। झारखंड के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी विनय कुमार चौबे ने सोमवार को यहां कहा कि इन प्रावधानों से मतदाताओं को अवगत कराया जाना है और राजनीतिक दल इसमें अहम भूमिका निभा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: झारखंड में पांच चरणों में मतदान, 23 दिसंबर को आएगा रघुवर के भाग्य पर फैसला

चौबे ने आज राजनीतिक दलों के साथ बैठक में इसकी विस्तार से जानकारी दी और बताया कि निर्वाचन आयोग ने दिव्यांग और 80 साल से ज्यादा उम्र के मतदाताओं के लिए डाकमत की व्यवस्था की है। उन्होंने बताया कि इसके साथ मतदाताओं के लिए मतदान केंद्र पर टोकन सिस्टम और बूथ ऐप लांच किया गया है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने बताया कि दिव्यांग और बुजुर्ग मतदाताओं के लिए पहले से उपलब्ध सुविधाओं में कोई बदलाव नहीं किया गया है। सिर्फ उनके लिए डाकमत की नयी सुविधा जोड़ी गयी है।

इसे भी पढ़ें: सूर्य देव और उनकी बहन छठ देवी की उपासना का पर्व है छठ पूजा

हालांकि इस सुविधा का लाभ लेने के लिए मतदाना को नामांकन प्रक्रिया शुरु होने के पांचवे दिन तक संबंधित निर्वाचन पदाधिकारी को इस आशय की जानकारी देनी होगी। इसके उपरांत विधानसभा क्षेत्रवार इस सुविधा का लाभ लेने वाले दिव्यांग और 80 साल से ज्यादा उम्र के मतदाताओं की सूची तैयार की जाएगी। मतदान कर्मचारी ऐसे मतदाताओं के घर जाकर उनसे मतदान के बारे में फॉर्म भरवाएंगे। लेकिन जो मतदाता एकबार डाकमत से वोट देने का विकल्प चुन लेंगे, वे इस चुनाव में मतदान केन्द्र पर वोट नहीं डाल सकेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept