प्रधानमंत्री ने गोरखपुर के मधुमक्खी पालक की सराहना की : योगी ने धन्यवाद कहा

PM
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
गोरखपुर की दिव्य नगर कॉलोनी के रहने वाले निमित सिंह बाराबंकी में शहद उत्पादन का कार्य करते हैं। वर्ष 2014 में अन्नामलाई विश्वविद्यालय से बीटेक की शिक्षा पूरी करने के बाद उनके पिता डॉक्टर के एन सिंह ने उन्हें कृषि क्षेत्र में जाने के लिए प्रेरित किया। वर्ष 2016 में सिंह ने शहद का उत्पादन शुरू किया और उन्हें लखनऊ के विभिन्न स्थानों पर बेचा।

लखनऊ/गोरखपुर,  1 अगस्त। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को ‘मन की बात’ कार्यक्रम में गोरखपुर के मधुमक्खी पालक निमित सिंह की तारीफ किए जाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया है। आदित्यनाथ ने एक ट्वीट कर कहा, ‘‘आदरणीय प्रधानमंत्री ने मन की बात कार्यक्रम में शहद और बी-वैक्स उत्पादन के क्षेत्र में गोरखपुर के निमित सिंह की लगनशीलता को सराहा है। निमित के प्रयास असंख्‍य युवाओं को स्‍वरोजगार व रोजगार सृजन के लिए प्रेरित करेंगे।

प्रधानमंत्री का आभार।’’ गोरखपुर की दिव्य नगर कॉलोनी के रहने वाले निमित सिंह बाराबंकी में शहद उत्पादन का कार्य करते हैं। वर्ष 2014 में अन्नामलाई विश्वविद्यालय से बीटेक की शिक्षा पूरी करने के बाद उनके पिता डॉक्टर के एन सिंह ने उन्हें कृषि क्षेत्र में जाने के लिए प्रेरित किया। वर्ष 2016 में सिंह ने शहद का उत्पादन शुरू किया और उन्हें लखनऊ के विभिन्न स्थानों पर बेचा। सिंह ने बताया कि अच्छी प्रतिक्रिया मिलने के बाद वर्ष 2018 में उन्होंने मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत 10 लाख रुपये का कर्ज लेकर अपना स्टार्टअप शुरू किया और लखनऊ के चिनहट इलाके में एक प्रयोगशाला स्थापित की।

सिंह ने बताया कि उन्होंने हाल में प्रधानमंत्री लघु खाद्य प्रसंस्करण उद्योग योजना के तहत 15 लाख रुपए का कर्ज लिया है। निमित के इस स्टार्टअप से बाराबंकी के चैनपुरवा गांव में 115 परिवारों को बी-वैक्स उत्पादन और 700 लोगों को शहद के उत्पादन और उसकी बिक्री से रोजगार मिला है। सिंह ने बताया कि अब उनके स्टार्टअप का कुल कारोबार दो करोड़ रुपए का हो गया है। अभी तक उन्होंने अपने साथ 500 किसानों को जोड़ा है और वह उन्हें मुफ्त प्रशिक्षण देते हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़