PM जुमलों और जेटली ब्लॉगिंग में व्यस्त, अर्थव्यवस्था तहस-नहस: येचुरी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 22, 2019   15:49
PM जुमलों और जेटली ब्लॉगिंग में व्यस्त, अर्थव्यवस्था तहस-नहस: येचुरी

माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाने वाले मोदी सरकार के प्रमुख फैसलों में नोटबंदी का जिक्र करते हुये कहा कि सरकार का यह फैसला काले धन को ‘सफेद’ करने वाला साबित हुआ।

नयी दिल्ली। माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने अर्थव्यवस्था को बदहाली के दौर में बताते हुये कहा है कि मोदी सरकार ने पांच साल में अर्थव्यवस्था को तहस नहस कर दिया है। येचुरी ने शुक्रवार को मोदी सरकार के चार लाख करोड़ रुपये के खर्च और कर्ज को छुपाने संबंधी मीडिया रिपोर्टों का हवाला देते हुये कहा कि वित्त मंत्री ब्लॉग लिखने में और प्रधानमंत्री मोदी जुमलेबाजी में व्यस्त हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘वित्त मंत्री ब्लॉगिंग में व्यस्त रहे और पीएम जुमले कसने में। सच तो यह है की भारत की अर्थव्यवस्था पिछले पांच सालों में पूरी तरह से तहस नहस कर दी गयी है। झूठ और धोखेबाज़ी का पुलिंदा है, इस सरकार का रिपोर्ट कार्ड, जैसा कि सीएजी ने भी कहा है।’

इसे भी पढ़ें: मोदी को फायदा पहुँचाने के लिए चुनाव तारीखों में हो रही है देरीः येचुरी

येचुरी ने अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाने वाले मोदी सरकार के प्रमुख फैसलों में नोटबंदी का जिक्र करते हुये कहा कि सरकार का यह फैसला काले धन को ‘सफेद’ करने वाला साबित हुआ। उन्होंने इस बारे में एक रिपोर्ट का हवाला देते हुये कहा कि नोटबंदी के बाद नकदी के प्रचलन में 19 प्रतिशत इजाफा हुआ है। येचुरी ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘रिजर्व बैंक के तमाम परामर्श को दरकिनार कर मोदी द्वारा की गयी नोटबंदी कालेधन को सफेद बनाने का जरिया साबित हुयी। हम सब जानते हैं कि नोटबंदी से किस तरह लोगों का जीवन और नौकरियां तबाह हुईं। और अब कैशलेस अर्थव्यवस्था का दावा भी जुमला ही साबित हुआ।’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।